ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News NCRबैक गियर में 2KM तक कार दौड़ने वाला गिरफ्तार, 6 साल पुराने डर से हुआ था फरार; BJP से बताया नाता

बैक गियर में 2KM तक कार दौड़ने वाला गिरफ्तार, 6 साल पुराने डर से हुआ था फरार; BJP से बताया नाता

गाजियाबाद में हिंडन एलिवेटेड सड़क पर बैक गियर में 2 किमी तक कार दौड़ाकर पुलिस को छकाने वाले आरोपी कार चालक को पुलिस ने दबोच लिया है। आरोपी की पहचान गोविंदपुरम निवासी कुलदीप शर्मा के रूप में हुई है।

बैक गियर में 2KM तक कार दौड़ने वाला गिरफ्तार, 6 साल पुराने डर से हुआ था फरार; BJP से बताया नाता
Praveen Sharmaगाजियाबाद। हिन्दुस्तानSun, 25 Feb 2024 11:33 AM
ऐप पर पढ़ें

गाजियाबाद में हिंडन एलिवेटेड सड़क पर बैक गियर में 2 किलोमीटर तक कार दौड़ाकर पुलिस को छकाने वाले आरोपी कार चालक को पुलिस ने दबोच लिया है। आरोपी की पहचान गोविंदपुरम निवासी कुलदीप शर्मा के रूप में हुई है। घटना के दौरान आरोपी कौशांबी में एक डॉक्टर के पास जा रहा था। आरोपी का कहना है कि वह पूर्व में दर्ज एक मुकदमे में पकड़े जाने के डर से भाग रहा था।

बुधवार रात से एलिवेटेड सड़क का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ था। वीडियो में दिख रहा था कि एक आई-20 कार चालक बैक गियर में तेजी से कार दौड़ा रहा है और पुलिस की पीसीआर पर तैनात पुलिसकर्मी कार को पकड़ने का प्रयास कर रहे हैं। इस दौरान कार एलिवेटेड सड़क पर सही दिशा में जा रही 10 चार पहिया और चार दो पहिया वाहनों से टकराने से बची थी। किसी बड़े हादसे की आशंका के चलते पुलिसकर्मियों ने कार चालक को जैसे ही थोड़ी राहत दी, वैसे ही वह मौका मिलते ही कार लेकर यूपी गेट की तरफ से फरार हो गया था।

सोशल मीडिया पर वीडियो वायरल होने के बाद पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने भी पुलिस को घेरा था। पुलिस की तीन टीमें लगातार आरोपी की तलाश में लगी थीं। डीसीपी ट्रांस हिंडन निमिष पाटील ने बताया कि आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया है। वह गोविंदपुरम की एसजी बैनीफिट सोसाइटी में रहता है। उसकी कार को भी पुलिस ने बरामद कर लिया है। आरोपी से पूछताछ की जा रही है।

डॉक्टर के पास जा रहा था आरोपी : पूछताछ में कुलदीप ने बताया कि वह बुधवार रात को अपने घर गोविंदपुरम से कार लेकर चला था। इस दौरान वह राजनगर एक्सटेंशन में अपने एक जानकार वकील से मिला था। इसके बाद वह कौशांबी स्थित एक डॉक्टर के पास जा रहा था।

पहले बदमाश फिर पुलिस के डर से भागा

आरोपी ने बताया कि कई साल पहले शाहबेरी में एक इमारत गिरी थी, जिसमें कई लोगों की मौत हो गई थी। उसने भी वहां एक अन्य इमारत में फ्लैट खरीदा था, लेकिन हादसे के बाद जिस इमारत में उसने फ्लैट खरीदा था, प्रशासन ने उसे सील कर दिया था। इमारत सील होने पर जिस बिल्डर से फ्लैट खरीदा था, उसके खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया था। कुलदीप ने बताया कि उसे लगा कि बिल्डर ने उसे पकड़ने के लिए बदमाश भेजे हैं। बाद में पुलिस की गाड़ी की पहचान हुई तो डर की वजह से भाग गया।

गाड़ी में सवार वृद्ध मां की भी नहीं की परवाह

पुलिस सूत्रों ने बताया कि घटना के वक्त गाड़ी में कुलदीप की वृद्ध मां भी सवार थीं। कुलदीप की मां उसे लगातार गाड़ी रोकने के लिए बोलती रहीं, लेकिन उसने उनकी भी परवाह नहीं की। वह बैक गियर में कार दौड़ाता रहा। इतना ही नहीं, गाड़ी को बैक गियर में दौड़ाते समय उसकी गाड़ी पीछे आ रहे कई वाहनों से भी टकराई थी।

पुलिसकर्मियों की जांच शुरू

डीसीपी ट्रांस हिंडन निमिष पाटिल ने बताया कि मामले में पीसीआर पर तैनात पुलिसकर्मियों की जांच के आदेश दिए हैं। पुलिसकर्मियों से भी इस बारे में पूछताछ की जाएगी और पता लगाया जाएगा कि आखिर ऐसी क्या मजबूरी थी कि उन्हें भी रॉन्ग साइड सरकारी वाहन लेकर भागना पड़ा। ऐसे में यदि कोई बड़ा हादसा हो जाता तो कौन जिम्मेदार होता।

प्राण प्रतिष्ठा के दौरान लगाए थे पोस्टर

पुलिस ने बताया कि श्रीराम मंदिर में प्राण प्रतिष्ठा के दौरान आरोपी ने क्षेत्र में अपने पोस्टर लगाए थे। उसने खुद को वरिष्ठ भाजपा नेता और समाजसेवी लिखवाया था। घटना के दौरान आरोपी की कार पर पार्टी का झंडा भी लगा था, जिसे उसने घर जाकर उतार कर रख दिया था। पार्टी के झंडे को भी पुलिस ने बरामद कर लिया।

बता दें कि, ग्रेटर नोएडा वेस्ट स्थित शाहबेरी गांव में 17 जुलाई 2018 को दो अवैध इमारतें गिरने से नौ लोगों की मौत हो गई थी। यह इमारतें बिना मानकों के बनाई गई थीं। 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें