Wednesday, January 26, 2022
हमें फॉलो करें :

मल्टीमीडिया

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ NCRनोएडा पुलिस के लिए जी का जंजाल बना 17 किलो सोना और 55 लाख रुपये, जानें क्या है पूरा मामला

नोएडा पुलिस के लिए जी का जंजाल बना 17 किलो सोना और 55 लाख रुपये, जानें क्या है पूरा मामला

मुख्य संवाददाता, नोएडाShivendra Singh
Mon, 25 Oct 2021 06:06 PM
नोएडा पुलिस के लिए जी का जंजाल बना 17 किलो सोना और 55 लाख रुपये, जानें क्या है पूरा मामला

इस खबर को सुनें

सबड़े बड़ी चोरी का खुलासा पुलिस के लिए जी का जंजाल बनता जा रहा है। पुलिस इस कालेधन के मालिक का पता नहीं लगा सकी है और इसको रखना भी मुसीबत बनता जा रहा है। 17 किलो सोने और 55 लाख के कैश को पुलिस ने जिला कोषागार में रखने का प्रयास किया था लेकिन जिलाधिकारी ने इसको रखने से इनकार कर एडीएम को पूरा मामला सौंपकर रिपोर्ट मांगी है। 

पुलिस के मुताबिक ग्रेटर नोएडा के सिल्वर सिटी-2 सोसाइटी के फ्लैट नंबर-301 से अगस्त 2020 में चोरों ने 36 किलो सोना और छह करोड़ से अधिक की नकदी चुराई थी। इस चोरी की कोई सूचना कभी भी पुलिस थाने में दर्ज नहीं हुई और किसी ने इस मामले में शिकायत नहीं की कि उसके यहां पर इतनी बड़ी चोरी हुई है। सेक्टर-39 थाना पुलिस ने 11 जून 2021 को छह आरोपियों को पकड़कर इस चोरी का खुलासा किया था और उनसे चोरी का सोना और नकदी बरामद की थी।

पुलिस इस मामले में करीब 17 किलो सोना और 57 लाख रुपये की नकदी समेत करीब 12 करोड़ कीमत के माल की बरामदगी कर चुकी है। चोरी के रुपये से खरीदी गई करोड़ों रुपये की जमीन के कागज भी जब्त किए गए हैं लेकिन कोई भी इस माल को अभी तक अपना नहीं बता रहा है और न ही इसके लिए दावेदारी कर रहा है। यह माल पुलिस के मालखाने में जमा है।

एडीएम की रिपोर्ट रिपोर्ट का इंतजार : जिलाधिकारी
जिलाधिकारी सुहास.एल.वाई ने कहा कि पुलिस ने इस सोने और नकदी को जिला कोषागार में रखने को कहा था। इस मामले में सीजेएम के आदेश में कहा गया था कि इस सोने और नकदी को बैंक में फिक्स डिपाजिट में या जिला कोषागार में रखा जाए। उन्होंने एडीएम को पूरा मामला सौंपकर रिपोर्ट देने को कहा है। एडीएम की रिपोर्ट आने के बाद इस मामले में फैसला किया जाएगा। 

जिला कोषागार में रखना चाहते हैं सोना और रुपये : एडीसीपी
एडीसीपी रणविजय सिंह ने कहा कि चोरों से बरामद सोना और रुपये पुलिस कोषागार में रखना चाहती है लेकिन उक्त माल के केस प्रॉपर्टी होने के कारण प्रशासनिक अधिकारियों का मानना है कि इसे बार-बार डबल लॉक से निकालना संभव नहीं होगा। इस मामले को एडीएम को सौंपते हुए रिपोर्ट देने के निर्देश दिए गए हैं और उनकी रिपोर्ट आने के बाद ही इस पर फैसला होगा। 

epaper

संबंधित खबरें