ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News NCRबकरीद पर कुर्बानी से बचाने को 11 लाख में खरीद लिए 127 बकरे; दिल्ली में किसने किया ऐसा

बकरीद पर कुर्बानी से बचाने को 11 लाख में खरीद लिए 127 बकरे; दिल्ली में किसने किया ऐसा

दिल्ली में 127 बकरों को कुर्बानी से बचाने के लिए कुछ लोगों ने मिलकर 11 लाख रुपए खर्च कर डाले। दिगंबर जैन लाल मंदिर से जुड़े लोगों ने चंदा एकत्रित करके बकरों की खरीद की। अब उन्हें बकराशाला भेज जाएगा।

बकरीद पर कुर्बानी से बचाने को 11 लाख में खरीद लिए 127 बकरे; दिल्ली में किसने किया ऐसा
Sudhir Jhaलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीTue, 18 Jun 2024 10:10 AM
ऐप पर पढ़ें

दिल्ली समेत पूरे देश में सोमवार को बकरीद का त्योहार धूमधाम से मनाया गया। परंपरा के मुताबिक कुर्बानी भी दी गई। इस बीच दिल्ली में 127 बकरों को कुर्बानी से बचाने के लिए कुछ लोगों ने मिलकर 11 लाख रुपए खर्च कर डाले। ना सिर्फ इन बकरों को खरीदा गया बल्कि जीवनभर इनकी सेवा का इंतजाम भी किया गया है। सोशल मीडिया पर इसकी खूब चर्चा हो रही है।

दरअसल, यह पहल पुरानी दिल्ली में स्थित धर्मपुरा जैन मंदिर से जुड़े जैन समाज के कुछ लोगों ने की। दिगंबर जैन लाल मंदिर के प्रबंधन से जुड़े पुनीत जैन ने 'लाइव हिन्दुस्तान' को फोन पर बताया कि मंदिर से जुड़े युवा जैन संगठन ने यह काम किया। उन्होंने कहा, 'हर जीव को जीने का हक है। हमसे जो भी सहयोग हो सकता है, जितनी हमारी क्षमता है उसके तहत हमने ऐसा किया।'

पुनीत जैन ने बताया कि बकरों का पूरा ध्यान रखा जा रहा है। उन्हें दाना-पानी दिया जा रहा है। डॉक्टरों की टीम सुबह शाम उनकी जांच कर रही है। एक-दो दिन में खतौली के पास एक बकराशाला में भेजा जाएगा, जिसे जैन समाज की ओर से ही संचालित किया जाता है। 

क्राउड फंडिंग से जुटाया गया पैसा
बकरीद से दो दिन पहले ही मंदिर से जुड़े कुछ लोगों में मन में यह विचार आया। इसके बाद समाज के लोगों को जोड़ने वाले वॉट्सऐप ग्रुप्स में प्लान को साझा करते हुए आर्थिक मदद की अपील की गई। देखते ही देखते 11 लाख रुपए से अधिक की धनराशि जमा हो गई। इस धनराशि से 127 बकरों की खरीद की गई। सोशल मीडिया पर वायरल वीडियो में लोग बकरों के साथ 'जियो और जीने दो' के नारे लगाते दिख रहे हैं। दिल्ली जैन समाज के अध्यक्ष चक्रेश जैन समेत कई लोगों ने इसमें अहम भूमिका निभाई। मुहिम से जुड़े लोगों ने बताया कि अंकुर जैन और विवेक जैन की मेहनत से यह सफल हो पाया।

Advertisement