DA Image
8 मई, 2021|7:00|IST

अगली स्टोरी

जानलेवा मलेरिया के तीन रोगी मिले

सेक्टर-24 स्थित ईएसआई अस्पताल में तीन रोगियों में मलेरिया के परजीवी प्लाज्मोडियम फैल्सीपैरम की पुष्टि हुई है। इनमें एक रोगी गाजियाबाद का रहने वाला है। डॉक्टरों के मुताबिक प्लाज्मोडियम फैल्सीपैरम को सभी मलेरिया परजीवी में सबसे ज्यादा खतरनाक और जानलेवा माना जाता है। इस मौसम में फैल्सीपैरम के ये पहले मामले हैं। अस्पताल की चिकित्सा निदेशिका डॉ. नीलिमा ने बताया कि तीन रोगियों में मलेरिया के प्लाज्मोडियम फैल्सीपैरम की पुष्टि हुई है। तीनों रोगी पुरुष हैं। मरीजों के नाम अमन, प्रकाश और सियाराम है। अमन विजय नगर गाजियाबाद के रहने वाले हैं। प्रकाश का ईएसआईसी कार्ड पुराना होने के कारण उनके निवास स्थान का पता नहीं लग सका है। सियाराम ईएसआई कर्मचारी के परिवार से हैं। मरीज इलाज के लिए मेडिकल वार्ड में भर्ती किए गए थे। मरीज अब ठीक हैं। उन्होंने कहा कि मलेरिया की पुष्टि होने पर लापरवाही न बरतें और तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें। इमरजेंसी चिकित्सक डॉ. गौरी के मुताबिक फैल्सीपैरम प्रभावित मरीज को यदि वक्त रहते सही इलाज न मिले तो स्प्लीन बड़ी हो जाती है। खून कमी हो जाती है, जिससे रोगी को एनीमिया हो जाता है। लीवर को नुकसान पहुंचता है। इन्हीं कारणों से रोगी की जान जा सकती है। अगस्त में 80 मरीजों में मलेरिया की पुष्टि स्वास्थ्य विभाग के मुताबिक जिले में अगस्त में 80 मरीजों में मलेरिया की पुष्टि हो चुकी है। सभी मामले मलेरिया के परजीवी प्लाज्मोडियम वाइवेक्स के थे। फैल्सीपैरम का इनमें एक भी मामला नहीं था। -------- ईएसआई अस्पताल की ओर से मरीजों की रिपोर्ट नहीं मिली है। अस्पताल की निदेशिका से रिपोर्ट मांगी जाएगी ताकि प्रभावित मरीज के घर के आसपास मच्छर नाशक दवा का छिड़काव कराया जा सके। -डॉ.अनुराग भार्गव, सीएमओ, गौतमबुद्ध नगर ----- मलेरिया के लक्षण -ठंड लगकर तेज बुखार -सर्दी-जुकाम -सांस फूलना -चक्कर आना -कमजोरी -शरीर और सिर में दर्द मच्छर से फैलता है डॉक्टरों के मुताबिक चार तरह के प्लाज्मोडियम परजीवी मनुष्य को प्रभावित करते हैं। प्लाज्मोडियम फैल्सीपैरम को सभी मलेरिया परजीवी में सबसे खतरनाक माना जाता है। मलेरिया के कारण व्यक्ति की मौत का यह सबसे ज्यादा जिम्मेदार है। मलेरिया के परजीवी का वाहक मादा एनोफिलेज मच्छर है। ----- बचाव- -रात में सोते समय मच्छरदानी का इस्तेमाल करें। -घरों की खिड़कियों और दरवाजों में जालियां लगवाएं। -पूरी बांह के कपड़े पहनें। कूलर की साफ सफाई का ध्यान रखें। -घर में पड़े टायरों और गमलों में पानी एकत्रित न होने दें। -घरों के आसपास के गड्ढों को मिट्टी से भर दें।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Three patients of malaria plasmodium falciparum