DA Image
हिंदी न्यूज़ › NCR › नोएडा › आरएसएस नेता के घर डकैती डालने वाले छह बदमाश गिरफ्तार
नोएडा

आरएसएस नेता के घर डकैती डालने वाले छह बदमाश गिरफ्तार

हिन्दुस्तान टीम,नोएडाPublished By: Newswrap
Sat, 31 Jul 2021 07:10 PM
आरएसएस नेता के घर डकैती डालने वाले छह बदमाश गिरफ्तार

नोएडा। वरिष्ठ संवाददाता

पुलिस ने आरएसएस नेता के परिवार को बंधक बनाकर घर में डकैती डालने वाले बाबा गिरोह के छह बदमाशों को सेक्टर 54 से गिरफ्तार किया है। पुलिस ने आरोपियों से नकदी और लाखों के आभूषण भी बरामद किए हैं।

डीसीपी राजेश एस ने बताया कि सेक्टर-55 के बी ब्लॉक निवासी कर्णवीर अनेजा का सेक्टर-8 में प्रिंटिंग प्रेस का कारोबार है। वह राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ में सह संपर्क प्रमुख हैं। 27 जुलाई की रात कर्णवीर घर पर नहीं थे। उनकी मां और पत्नी भी किसी काम से बाहर गई हुई थीं। घर में कर्णवीर की 14, 12 एवं दस वर्षीय तीन बेटियां और एक घरेलू सहायिका थी। इसी बीच चार हथियारबंद बदमाश मास्क लगाकर घर में घुसे। बदमाश तीनों बच्चियों और घरेलू सहायिका को हथियारों के बल पर कमरे में बंधक बनाकर तीन लाख रुपये, लाखों रुपये के आभूषण लूट कर ले गए थे। पीड़ित ने सेक्टर 58 थाने में अज्ञात बदमाशों के खिलाफ केस दर्ज कराया था। बदमाशों की गिरफ्तारी के लिए पुलिस की पांच टीमों को लगाया गया था। पुलिस ने सर्विलांस व सीसीटीवी फुटेज की मदद से वारदात को अंजाम देने वाले छह बदमाशों को सेक्टर 54 से गिरफ्तार किया।

पुलिस पूछताछ में आरोपियों की पहचान बुलंदशहर के अंबेडकर नगर निवासी विक्रम, अलीगढ़ के गांव मरीगढ़ी निवासी विशाल, खोड़ा कॉलोनी निवासी नितिन शर्मा, बुलंदशहर के अहीरपाड़ा निवासी कुशाल शर्मा, अलीगढ़ के नवाबपुर निवासी सचिन पंडित और इटावा के गांव रतनपुरा निवासी रोहित के रूप में हुई है। पुलिस ने आरोपियों से लूट के 82650 रुपये, आठ चांदी के सिक्के, सात मोबाइल, तमंचा और बैग बरामद किए हैं। वारदात को अंजाम देने वाले गिरोह को बाबा के नाम से जाना जाता है। गिरोह गाजियाबाद, नोएडा और दिल्ली में डकैती और लूट की वारदात करता है।

मास्टरमाइंड मोनू, हर्षित, विक्रम और विष्णु घुसे थे घर में

गिरोह का मास्टरमाइंड मोनू उर्फ बाबा उर्फ आमिर हुसैन है। मोनू अपने साथियों हर्षित, विक्रम और विष्णु गुप्ता के साथ आरएसएस नेता के घर में घुसा था। अभी मोनू, हर्षित, गौतम और विष्णु फरार हैं। थाना प्रभारी अनिल कुमार ने बताया कि घर में घुसने वाले बदमाशों को लूट के सामान में से 30 प्रतिशत ज्यादा हिस्सा मिलता था, जबकि रेकी करने वालों को 10 प्रतिशत हिस्सा दिया जाता था। विक्रम के खिलाफ बुलंदशहर में दुष्कर्म का केस दर्ज है।

विशाल ने की थी रेकी

पुलिस के हत्थे चढ़े विशाल ने डकैती के लिए आरएसएस नेता के मकान की रेकी की थी। उसका परिचित पीड़ित के पास वाली कोठी में चौकीदार है। इसी दौरान आरोपी ने पीड़ित के घर की रेकी की। उसने अपने साथियों को बताया कि पीड़ित के मकान में पीजी होने के कारण दरवाजा खुला रहता है। विशाल ने ही बताया था कि मकान में पीड़ित की तीन बेटियां और घरेलू सहायिका हैं। वारदात के दौरान भी आरोपी अपने साथियों को मोबाइल पर घर के बाहर की स्थिति के बारे में जानकारी दे रहा था।

महंगे शौक पूरा करने के लिए लूट-डकैती

बाबा गिरोह के बदमाश महंगे शौक पूरे करने के लिए लूट और डकैती करते हैं। सभी आरोपी 21 से 26 साल के हैं। सभी नशा, हुक्काबार व पार्टियों सहित महंगे शौक पूरा करने के लिए वारदात को अंजाम देते हैं। अब आरोपियों के पैसे खत्म हो गए थे। इसी के चलते आरएसएस नेता पदाधिकारी के घर में डकैती डाली।

कुछ गड़बड़ होती तो मांगते तीन करोड़ की फिरौती

पूछताछ में आरोपियों ने बताया कि यदि वारदात के दौरान कुछ गड़बड़ होती तो वह पीड़ित की तीनों बेटियों को बंधक बना लेते। फिर उन्हें छोड़ने के एवज में आरएसएस नेता से तीन करोड़ रुपये की फिरौती मांगते, लेकिन लाखों रुपये के आभूषण और नकदी मिलने पर आरोपी फरार हो गए।

संबंधित खबरें