ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News NCR नोएडाभूमि दिलाने का झांसा देकर एक करोड़ हड़पे

भूमि दिलाने का झांसा देकर एक करोड़ हड़पे

नोएडा, वरिष्ठ संवाददाता। एक कंपनी के पार्टनर ने प्रोजेक्ट के लिए दिल्ली में 60...

भूमि दिलाने का झांसा देकर एक करोड़ हड़पे
हिन्दुस्तान टीम,नोएडाTue, 14 May 2024 05:45 PM
ऐप पर पढ़ें

नोएडा, वरिष्ठ संवाददाता। एक कंपनी के पार्टनर ने प्रोजेक्ट के लिए दिल्ली में 60 करोड़ रुपये में भूमि बेचने का झांसा देकर एक करोड़ रुपये ठग लिए। इसके लिए उसने कंपनी को जमीन के फर्जी दस्तावेज भी दिखाए। इस मामले में न्यायालय के आदेश पर आरोपी के खिलाफ सेक्टर-24 थाने में केस दर्ज हुआ है।
सेक्टर-12 स्थित मेसर्स एसोटेक लिमिटेड के अधिकृत प्रतिनिधि राधेश्याम शर्मा ने न्यायालय में दिए प्रार्थनापत्र में बताया कि ब्लू वाटर इंटरप्राइजेज के पार्टनर सत्यप्रिय लखोटिया मार्च 2014 में उनके कार्यालय में आए और कंपनी के एमडी एवं अन्य उच्च अधिकारियों के साथ बैठक की। सत्यप्रिय ने बताया कि उनके संपर्क में दिल्ली के कुछ भू स्वामी हैं, जिनके पास काफी भूमि है और वह उसे बेचना चाहते हैं। अगर उनकी कंपनी उस भूमि पर प्रोजेक्ट लाती है तो उससे काफी लाभ होगा। एक अप्रैल 2014 को सत्यप्रिय कंपनी के कार्यालय पर दोबारा आए और संबंधित पदाधिकारी के साथ मीटिंग करते हुए जमीन के दस्तावेज की फोटो कॉपी भी दिखाई। भूमि के दस्तावेज की फोटो कॉपी देखने के बाद कंपनी के एमडी और उच्च अधिकारियों ने उसके लुभावने वादों पर विश्वास करते हुए एक अप्रैल को ही एमओयू संपादित कर दिया। इसके तहत कुल 60 करोड़ की भूमि के क्रय के संबंध में सत्यप्रिय को इसका दस प्रतिशत देने की बात तय हुई। बतौर एडवांस उसको कंपनी की ओर से एक करोड़ रुपये का भुगतान कर दिया गया। इस दौरान यह भी तय हुआ कि आरोपी ने भूमि की, जो फोटोकॉपी दिखाई थी, उसकी मूल प्रति लेकर जल्द ही कंपनी के कार्यालय में आएगा। काफी दिन तक सत्यप्रिय न तो खुद कंपनी में आया और न ही संबंधित भूमि के मालिकों को कंपनी में लाया। वादे के अनुसार उसने भूमि के मूल दस्तावेज भी नहीं सौपें। दस्तावेज के सवाल पर वह लगातार टालमटोल करता रहा। सत्यप्रिय के पिता के साथ शिकायतकर्ता की कंपनी के पुराने व्यावसायिक संबंध रहे हैं। काफी समय तक जब सत्यप्रिय ने मूल दस्तावेज नहीं सौपें तो कंपनी के एमडी और पदाधिकारी को उस पर शक होने लगा। जब मामले की छानबीन की गई तो पता चला की सत्यप्रिय का किसी भी भूस्वामी से संपर्क नहीं है। जिस भूमि की उसने फोटोकॉपी दिखाई थी, वह पूरी तरीके से फर्जी थी। आरोपी ने एक करोड रुपए हड़पने के लिए ही ऐसा किया था। दावा यह भी है कि वर्तमान में एक करोड़ की, जो राशि दस साल पहले दी गई थी, वह ब्याज सहित छह करोड़ 78 लाख हो गई है। कंपनी के एमडी समेत अन्य पदाधिकारी ने जब आरोपी से पैसे वापस मांगे तो उसने पैसे वापस करने से इनकार कर दिया। साथ ही, उसने गंभीर परिणाम भुगतने की धमकी भी पीड़ित की कंपनी के एमडी और पदाधिकारी को दी। शिकायतकर्ता ने मामले की शिकायत पूर्व में स्थानीय थाने की पुलिस से की थी पर कोई सुनवाई नहीं हुई। ऐसे में उसने न्यायालय की शरण ली। इस मामले में अब कोर्ट के आदेश पर आरोपी सत्यप्रिय के खिलाफ धोखाधड़ी समेत चार धाराओं में केस दर्ज हुआ है। थाना प्रभारी ने बताया कि पुलिस नामजद आरोपी से पूछताछ करने के बाद मामले में आगे की कार्रवाई करेगी।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।