DA Image
हिंदी न्यूज़ › NCR › नोएडा › सुविधा : गांव-गांव जाकर प्राधिकरण अधिकारी सुलझाएंगे समस्या
नोएडा

सुविधा : गांव-गांव जाकर प्राधिकरण अधिकारी सुलझाएंगे समस्या

हिन्दुस्तान टीम,नोएडाPublished By: Newswrap
Sat, 31 Jul 2021 08:10 PM
सुविधा :  गांव-गांव जाकर प्राधिकरण अधिकारी सुलझाएंगे समस्या

फ्लैग : हर सप्ताह मंगलवार व गुरुवार को अधिकारी गांवों में जाएंगे, इसके लिए अगस्त व सितंबर का रोस्टर जारी किया गया

नोएडा। वरिष्ठ संवाददाता

गांवों की समस्याएं सुलझाने के लिए नोएडा प्राधिकरण ने 'नोएडा आपके द्वार' कार्यक्रम चलाने का निर्णय लिया है। इसके तहत प्राधिकरण के सभी विभागों के अधिकारी हर मंगलवार व गुरुवार गांव-गांव जाकर समस्याएं सुलझाएंगे। इसकी शुरुआत तीन अगस्त से होने जा रही है। इसके लिए अगस्त व सितंबर महीने का रोस्टर जारी कर दिया गया है।

सेक्टरों की तर्ज पर गांवों का विकास करने की मांग काफी समय से उठ रही है। नोएडा प्राधिकरण ने गांवों में समस्याओं का समाधान करने के लिए निरीक्षण करने का निर्णय लिया है। 'नोएडा आपके द्वार' कार्यक्रम के तहत नोएडा प्राधिकरण के मुख्य महाप्रबंधक के नेतृत्व में विभिन्न विभागों जैसे सिविल, जल, जनस्वास्थ्य, उद्यान, भूलेख विभाग के अधिकारियों की टीम प्रत्येक मंगलवार व गुरुवारों को गांवों में जाएगी।

टीम में महाप्रबंधक(सिविल), उपमहाप्रबंधक(जल) व वरिष्ठ परियोजना अभियंता (जनस्वास्थ्य) को आवश्यक रूप से उपस्थित रहने के निर्देश सीईओ रितु माहेश्वरी ने दिए हैं। इसके अलावा संबंधित तहसीलदार एवं संबंधित विभागों के क्षेत्रीय अधिकारी भी मौजूद रहेंगे। निरीक्षण के दौरान सामने आने वाली समस्याओं का जल्द निस्तारण किया जाएगा। नोएडा प्राधिकरण के मुख्य महाप्रबंधक राजीव त्यागी ने बताया कि अगस्त व सितंबर में जिन गांवों का प्राधिकरण की टीम दौरा करेगी, उसका रोस्टर जारी कर दिया गया है। कार्यक्रम की शुरुआत तीन अगस्त को सुबह 10 बजे से सफार्बाद गांव से होगी। इसके बाद 5 को सोरखा, 10 को इलाबांस, 12 को नयागांव, 17 को भंगेल, 24 को सलारपुर, 26 को रायपुर और 31 अगस्त को असगरपुर जागीर प्राधिकरण की टीम जाएगी।

गंदगी, अतिक्रमण व पानी की ज्यादा दिक्कत

शहर के गांवों में सीवर-नाली व सड़क पर गंदगी, रेहड़ी-पटरी व सरकारी जमीन पर बस रहीं झुग्गियां सबसे बड़ी समस्याएं हैं। गांवों में सफाई नहीं हो रही हैं। सीवर लाइन ओवरफ्लो होने से लोगों का निकलना मुश्किल हो जाता है। गांव की गलियां कई साल से नहीं बनी हैं। इस कारण वह टूट चुकी हैं। इससे अधिकतर समय उनमें पानी भरा रहता है। गांवों में सुबह-शाम छह घंटे के बजाए 2 घंटे ही सप्लाई का पानी आता है, वह भी कम दबाव व गंदगी के साथ। बिजली के तार भी ऐसे ही लटके हुए हैं। अट्टा गांव में सीवर लाइन जाम हो रखी है, जगह-जगह गंदगी हो रखी है। गांव के रहने वाले राजेश अवाना का कहना है कि सीवर लाइन जाम होने की शिकायत काफी समय से लगातार कर रहे हैं लेकिन समस्या का समाधान नहीं हो रहा है। निठारी गांव के मनीष शर्मा का कहना है कि गांव की हर गली में गंदगी देखी जा सकती है। महीने में 105-15 दिन गंदा पानी ही आता है।

सफाईगिरि अभियान हो रखा है बंद

सेक्टर व गांवों की समस्याएं सुलझाने के लिए नोएडा प्राधिकरण की सीईओ रितु माहेश्वरी ने वर्ष 2019 में सफाईगिरि की शुरूआत की थी। इसके तहत हर शनिवार-रविवार को प्राधिकरण के अधिकारी 5 सेक्टर व गांवों में सुबह-सुबह जाकर वहां का दौरा का समस्याएं सुनते थे लेकिन करीब सवा साल से कोरोना के कारण यह अभियान ठंडा पड़ गया। कोरोना की पहली लहर समाप्त आने के बाद नवंबर-दिसंबर में इसकी शुरूआत हुई थी लेकिन अप्रैल से फिर बंद हो गया, जो अभी तक बंद चल रहा है।

संबंधित खबरें