DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बीमा पॉलिसी की नाम पर ठगी करने वाले दबोचे

साइबर क्राइम सेल ने बुधवार को बीमा पॉलिसी के नाम पर ठगी करने वाले तीन लोगों को गिरफ्तार कर लिया। आरोपी बीमा पॉलिसी लैप्स होने पर दोगुना पैसा देने का झांसा देते थे। आरोपी खुद को आरबीआई का अधिकारी बताकर लोगों को शिकार बनाते थे। इनमें एक आरोपी पुलिस में भर्ती होने की तैयारी कर रहा है, जबकि एक युवक ने दिल्ली विश्वविद्यालय से बीएससी कर रहा है। पुलिस ने तीनों को न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया है।

कन्नौज जिले के डालूपुर गांव का रहने वाला ब्रजेश कुमार यूपी पुलिस में भर्ती की तैयारी कर रहा है। वह दिल्ली के न्यू अशोक नगर में किराए पर रहता है। आरोपी ने सेक्टर-63 में रहने वाले दोस्त अवधेश कुमार और सेक्टर 19 में रहने वाले प्रवीण कुमार के साथ फर्जी कंपनी बनाकर लोगों के साथ ठगी करनी शुरू कर दी। प्रवीण डीयू से बीएससी पास है। आरोपियों ने पिछले दिनों सेक्टर-62 के हरमोनी अपार्टमेंट में रहने एनटीपीसी से सेवानिवृत्त अधिकारी रोबिन मजुमदार से 6 लाख रुपये ठग लिए थे। मजुमदार की शिकायत पर पुलिस ने केस दर्ज किया था। साइबर क्राइम सेल ने सोमवार रात खोड़ा तिराहे से मुखबिर की सूचना पर तीनों को गिरफ्तार कर लिया। एसएसपी डा. अजयपाल शर्मा ने बताया कि मुख्य आरोपी ब्रजेश कुमार अप्रैल 2017 में सेक्टर-10 स्थित डीएसए इंश्योरेंस कंपनी में नौकरी कर चुका है। यह कंपनी तीन महीने बाद भाग भाग गई थी। यहीं से उसने इंश्योरेंस पॉलिसी के लैप्स होने, पॉलिसी को नवीनीकरण करने और दोगुना पैसा देकर ठगी करने का गोरखधंधा सीखा था। आरोपियों ने कंपनी से मिले डाटा का इस्तेमाल कर लोगों के साथ ठगी की। ठगी की रकम में से ब्रजेश को 50 फीसदी, प्रवीण को 20 फीसदी और अवधेष को 30 फीसदी रकम का हिस्सा मिलता था। पुलिस को आशंका है कि आरोपियों ने बड़ी संख्या में लोगों के साथ ठगी की है। पुलिस अभी जांच कर रही है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:beema polisee kee naam par thagee karane vaale daboche