DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अगवा किशोरी की हत्या का एक माह बाद खुलासा

नोएडा। संवाददाता कोतवाली सेक्टर-49 क्षेत्र के सर्फाबाद में रहने वाली किशोरी की हत्या का पुलिस ने खुलासा कर दिया है। किशोरी को अगवा करने के बाद आरोपी ने एक माह पहले हत्या कर शव हापुड़ के सिंभावली थानाक्षेत्र में फेंक दिया था। नोएडा पुलिस ने शुक्रवार को सेक्टर-49 से आरोपी को गिरफ्तार कर मामले का खुलासा किया है। आरोपी को हापुड़ के सिंभावली पुलिस को सौंप दिया गया है। मूलरूप से बिहार के मुंगेर की रहने वाली 15 वर्षीय काजल (बदला हुआ नाम) सर्फाबाद में मां, भाई और एक बहन के साथ रहती थी। उसके पिता की पहले ही मौत हो चुकी थी। पड़ोस में हापुड़ के सिंभावली थानाक्षेत्र के रजापुर गांव का रहने वाला यशवीर नाम का युवक रहता था। वह बोरिंग का काम करता था। यशवीर की दोस्ती बढ़ी तो उसने काजल को एक मोबाइल फोन दे दिया था। जानकारी होने पर काजल की मां ने मोबाइल लौटाने का दबाव बनाया। 27 अप्रैल की सुबह काजल घर से मोबाइल लौटाने के लिए गई उसके बाद वापस नहीं आई। 28 अप्रैल को काजल के परिजनों ने सेक्टर-49 थाने में यशवीर के खिलाफ अपहरण का केस दर्ज कराया था। यशवीर की गिरफ्तारी के बाद पुलिस की पूछताछ में पूरी कहानी सामने आई। मामूली विवाद पर मार डाला पुलिस के मुताबिक यशवीर ने काजल को तीन दिन गाजियाबाद में रखा। एक मई को वह उसे हापुड़ स्थित रजापुर गांव ले जा रहा था। काजल महंगा फोन दिलाने की मांग की, इसी को लेकर हुए विवाद में यशवीर ने सिंभावली थानाक्षेत्र में एक नहर के पास काजल की चुन्नी से गला घोंटकर हत्या कर दी। शव नहर में फेंक दिया। दो मई को सिंभावली पुलिस को शव मिला तो अज्ञात के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज कर लिया। उस समय काजल की शिनाख्त नहीं हो सकी थी। मोबाइल लोकेशन से पकड़ा गया सेक्टर-49 पुलिस ने यशवीर को शुक्रवार को मोबाइल लोकेशन के आधार पर गिरफ्तार किया। पूछताछ में उसने काजल की हत्या की पूरी कहानी बताई। सिंभावली पुलिस से संपर्क किया गया तो वहां से दो मई को अज्ञात शव मिलने की पुष्टि हुई और अंजली का फोटो मिला। पुलिस ने अंजली के परिजनों को फोटो दिखाया तो उसकी शिनाख्त हो गई। पुलिस सक्रिय होती तो बच जाती जान काजल की मां का आरोप है कि उन्होंने कई बार पुलिस से बेटी को तलाशने की गुहार लगाई थी। पुलिस ने उन्हें थाने से भगा दिया था। पुलिस सक्रियता से काजल की तलाश में जुटती तो उसकी जान बच सकती थी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:A month after the murder of the teenager revealed