ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News NCR नई दिल्ली‘राजमार्ग यात्रा ऐप पर हाइवे, टोल प्लाजा और सुविधाओं की रेटिंग कर सकेंगे

‘राजमार्ग यात्रा ऐप पर हाइवे, टोल प्लाजा और सुविधाओं की रेटिंग कर सकेंगे

नई दिल्ली, अरविंद सिंह। राष्ट्रीय राजमार्गो पर हर साल सफर करने वाले 250 करोड़

‘राजमार्ग यात्रा ऐप पर हाइवे, टोल प्लाजा और सुविधाओं की रेटिंग कर सकेंगे
हिन्दुस्तान टीम,नई दिल्लीMon, 12 Feb 2024 06:15 PM
ऐप पर पढ़ें

नई दिल्ली, अरविंद सिंह।
राष्ट्रीय राजमार्गो पर हर साल सफर करने वाले 250 करोड़ यात्रियों के लिए अच्छी खबर है। वे अब ‘राजमार्ग यात्रा ऐप्लीकेशन पर यात्रा के दौरान अपने मोबाइल से टोल प्लाजा, यात्री सुविधाओं, राजमार्गों की स्थिति आदि को लेकर टिप्पणी के साथ रेटिंग कर सकेंगे। इन शिकायतों-सुझावों पर सरकार तेजी से सुधार कर रही है। वहीं, खराब रेटिंग वाली टोल कंपनियों, निर्माण कंपनियों व अधिकारियों पर नकेल कस रही है।

संसद की एक समिति ने भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (एनएचएआई) से राजमार्ग यात्रा मोबाइल एप में आम सड़क यात्रियों के फीडबैक विकल्प को जोड़ने की सिफारिश की थी। जिससे सड़क यात्रियों से फीडबैक लेकर राष्ट्रीय राजमार्गो का सफर सुरक्षित व सुविधाजनक बनाया जा सकता है। इसके पूर्व इस ऐप का नाम ‘सुखद यात्रा ऐप था। ऐप के खराब प्रदर्शन के चलते सड़क यात्रियों ने अपनी प्रतिक्रिया में पांच में से 2.7 रेटिंग स्टार्स दिए हैं। एनएचएआई ने नए बदलाव के साथ इसका नाम अब राजमार्ग यात्रा ऐप कर दिया है। अब सड़क यात्रियों ने इसे 4.4 रेटिंग स्टार्स दिए हैं।

एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया, नए एप में सफर पर निकलने वाले कार चालक को राजमार्ग के टोल प्लाजा की संख्या, निजी-व्यवसायिक वाहनों की टोल की दरें, दूरी, समय, रूट मैप आदि की जानकारी मिलेगी। आपातकाल में स्थानीय पुलिस 122, एनएचएआई हेल्पलाइन नंबर 1033 व इंडिया एप 112 पर सीधे काल करने की सुविधा है। राष्ट्रीय राजमार्गो के गड्ढे, सड़क दुर्घटना, यातायात जाम, निर्माण कार्य के चलते डायवर्जन आदि की जानकारी दर्ज करने की सुविधा अलग से है।

रिपोर्ट समरी में दर्ज की गई सुझावों-शिकायतों पर की गई कार्रवाई को देखा जा सकेगा। इसके अलावा ऐप में मौसम की जानकारी, अपने राजमार्ग को जाने, अपनी यात्रा का रिकॉर्ड करने की सुविधा है। अधिकारी ने बताया कि सड़क यात्रियों से मिलने वाले फीडबैक के आधार पर ऐप में नए सुधार शामिल किए जा सकते हैं।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।
हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें