DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कालाधन सफेद करने के मामले में योगेश मित्तल गिरफ्तार

प्रतीकात्मक तस्वीर

नोटबंदी के दौरान पुराने नोटों को नए नोट में बदलने के मामले में प्रवर्तन निदेशालय ने कारोबारी योगेश मित्तल को गिरफ्तार किया है। मित्तल की गिरफ्तारी वकील रोहित टंडन के लिए 51 करोड़ का कालाधन सफेद करने के मामले में हुई हैं। राजधानी के मॉडल टाउन में रहने वाले योगेश मित्तल को मंगलवार को अदालत में पेश किया गया। अदालत ने तीन दिन की हिरासत में भेज दिया है।

प्रवर्तन निदेशालय का कहना है कि योगेश मित्तल ने नोटबंदी के दौरान एडवोकेट रोहित टंडन, कोटक महिंद्रा बैंक के निलंबित प्रबंधक आशीष कुमार, राजकुमार गोयल और अन्य लोगों के साथ मिलकर 51 करोड़ रुपये का कालाधन सफेद किया। इसलिए, मित्तल को धन शोधन निरोधक कानून के तहत गिरफ्तार किया गया है। इस सिलसिले में ईडी ने योगेश मित्तल के घर पर तीस मई को छापा मारा था। ईडी का कहना है कि मित्तल ने नोटबंदी के दौरान रोहित टंडन के पास मौजूद कालेधन को फर्जी कंपनियों के खाते में जमा किया।

ईडी ने बताया कि योगेश मित्तल ने विभिन्न बैंकों में स्थित फर्जी कंपनियों के खातों में कालाधन जमा कराया। यह काम योगेश मित्तल की निगरानी में हुआ। दरअसल, यह लोग कालाधन जमाकर फर्जी नाम से बैंक ड्राफ्ट बनवा लेते थे। बाद में इस बैंक ड्राफ्ट को निरस्त कराकर नए नोट में पैसे ले लेते थे। इस मामले में कोटक महिंद्रा बैंक का मैनेजर आशीष कुमार 35 प्रतिशत की कमीशन पर यह काम करता था। इस मामले में ईडी  रोहित टंडन, आशीष कुमार और राजकुमार जैन को पहले ही गिरफ्तार कर चुकी है। ईडी ने इस मामले में 41 करोड़ रुपये की संपत्ति भी जब्त की है। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Yogesh Mittal arrested for black money to whitening