ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News NCR नई दिल्लीसरकार ने धान का एमएसपी बढ़ाकर 2300 रुपये प्रति क्विंटल किया

सरकार ने धान का एमएसपी बढ़ाकर 2300 रुपये प्रति क्विंटल किया

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 3.0 सरकार ने दूसरी कैबिनेट बैठक में 14 फसलों के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) जारी कर दी है। ये फैसले आगामी विभिन्न...

सरकार ने धान का एमएसपी बढ़ाकर 2300 रुपये प्रति क्विंटल किया
default image
हिन्दुस्तान टीम,नई दिल्लीWed, 19 Jun 2024 10:15 PM
ऐप पर पढ़ें

- खरीफ फसलों के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य घोषित
- दलहन और तिलहन की फसलों को मिला बड़ा लाभ

नई दिल्ली, विशेष संवाददाता। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 3.0 सरकार ने दूसरी कैबिनेट बैठक में 14 फसलों के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) जारी कर दी है। ये फैसले आगामी विभिन्न राज्यों में चुनाव को देखते हुए लिए गए हैं। सरकार के पास अधिशेष चावल भंडार होने के बावजूद धान के एमएसपी में 117 रुपये की वृद्धि की गई है। इस प्रकार खरीफ विपणन सत्र 2024-25 के लिए धान का एमएसपी 5.35 प्रतिशत बढ़ाकर 2,300 रुपये प्रति क्विंटल कर दिया गया है।

सूचना एवं प्रसारण मंत्री अश्विनी वैष्णव ने कैबिनेट फैसलों की जानकारी दी। उन्होंने कहा कि मंत्रिमंडल ने कृषि लागत और मूल्य आयोग (सीएसीपी) की सिफारिशों के आधार पर 14 खरीफ (ग्रीष्मकालीन) फसलों के लिए एमएसपी को मंजूरी दी है। उन्होंने बुधवार को संवाददाताओं को बताया कि आगामी खरीफ मौसम के लिए सामान्य ग्रेड के धान का एमएसपी 117 रुपये बढ़ाकर 2,300 रुपये प्रति क्विंटल कर दिया गया है, जबकि ए ग्रेड किस्म के लिए इसे बढ़ाकर 2,320 रुपये प्रति क्विंटल कर दिया गया है।

वैष्णव ने कहा कि सरकार ने वर्ष 2018 के केंद्रीय बजट में एक स्पष्ट नीतिगत निर्णय लिया था कि एमएसपी उत्पादन की लागत से कम से कम 1.5 गुना होना चाहिए। इस एमएसपी वृद्धि में इस सिद्धांत का पालन किया गया है। उन्होंने कहा कि लागत की गणना सीएसीपी ने वैज्ञानिक तरीके से की है।

--

इन फसलों की एमएसपी बढ़ाई गई

जिन फसलों के समर्थन मूल्य बढ़ाए गए हैं उनमें धान बाजरा, मक्का तिल, कपास, ज्वार रागी, मक्का, अरहर, मूंग, उड़द, मूंगफली, सूरजमुखी, सोयाबीन शामिल हैं।

--

दो लाख करोड़ किसानों के पास जाएंगे

अश्विनी वैष्णव ने बताया कि सरकार के इस फैसले से किसानों के पास दो लाख करोड़ रुपये जाएंगे। उन्होंने बताया कि सरकार ने किसानों को उनकी उपज के लिए लाभकारी मूल्य तय करने के लिए विपणन सत्र 2024-25 के लिए खरीफ फसलों के एमएसपी में वृद्धि की है। पिछले वर्ष की तुलना में एमएसपी में सबसे अधिक वृद्धि तिलहन और दलहन के लिए की गई है। काला तिल के एमएसपी 983 रुपये प्रति क्विंटल, तिल में 632 रुपये प्रति क्विंटल और अरहर में 550 रुपये प्रति क्विंटल की बढ़ोतरी की गई है।

-----

एफसीआई के पास पर्याप्त भंडार

भारतीय खाद्य निगम (एफसीआई) के पास वर्तमान में लगभग 5.34 करोड़ टन चावल का रिकॉर्ड भंडार है, जो एक जुलाई तक के लिए आवश्यक बफर से चार गुना अधिक है। यह बिना किसी नई खरीद के एक साल के लिए कल्याणकारी योजनाओं के तहत मांग को पूरा करने के लिए पर्याप्त है।

दो लाख गोदाम बनाने का काम चल रहा

मौसम विभाग के अनुसार, एक जून को मानसून की शुरुआत के बाद से देशभर में लगभग 20 प्रतिशत कम वर्षा हुई है। इसके बावजूद अब मौसम की स्थिति बारिश को आगे बढ़ने के लिए अनुकूल है। अश्विनी वैष्णव ने बताया कि देश में एक अभियान के तहत दो लाख गोदाम बनाने का काम चल रहा है। जिससे किसानों के उपज को पर्याप्त समय तक भंडारण किया जा सके। यह गोदाम पैक्स के तहत बनाए जाएंगे। जिससे परिवहन का भार किसानों पर नहीं पड़ेगा।

इस कार्यकाल में महत्वपूर्ण बड़े फैसले होंगे

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि मोदी सरकार के इस कार्यकाल में महत्वपूर्ण बड़े फैसले होंगे। सरकार ने 10 साल में देश के आर्थिक विकास की बुनियादी तैयार कर दी है। अब अगले पांच साल में इसे तेजी से आगे बढ़ाना है। खाद की कीमत दुनिया में आसमान पर पहुंचने के बावजूद भारत में सरकार ने सब्सिडी देकर उसकी कीमत काबू में रखा है। मालूम हो कि हरियाणा, महाराष्ट्र, झारखंड और दिल्ली में विधानसभा चुनाव होने जा रहे हैं।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।