DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   NCR  ›  नई दिल्ली  ›  अदालत ने पूछा, पायलटों की ब्रेथ एनेलाइजर जांच जरूरी है या नहीं
नई दिल्ली

अदालत ने पूछा, पायलटों की ब्रेथ एनेलाइजर जांच जरूरी है या नहीं

हिन्दुस्तान टीम,नई दिल्लीPublished By: Newswrap
Tue, 27 Apr 2021 05:50 PM
अदालत ने पूछा, पायलटों की ब्रेथ एनेलाइजर जांच जरूरी है या नहीं

नई दिल्ली। प्रमुख संवाददाता

उच्च न्यायालय ने मंगलवार को नागर विमानन महानिदेशालय (डीजीसीए) को मेडिकल बोर्ड गठित कर कर यह पता लगाने को कहा है कि पायलटों और चालक दल के सदस्यों की ब्रेथ एनेलाइजर जांच कराने की जरूरत है या फिर वैकल्पिक तौर पर खून का जांच करना ही पर्याप्त होगा। न्यायालय ने सार्वजनिक क्षेत्र की विमानन कंपनी एअर इंडिया के पायलटों के एक संघ की ओर से दाखिल याचिका पर यह आदेश दिया है।

याचिका में कोरोना संक्रमण के मद्देनजर ब्रेथ एनेलाइजर जांच (बीएटी) पर अस्थायी रोक लगाने की मांग की गई है। इस जांच के जरिए यह पता लगाया जाता है कि पायलट या चालक दल के सदस्य ने कहीं शराब तो नहीं पी रखी है।

जस्टिस प्रतिभा एम सिंह ने कहा है कि मौजूदा महामारी के दौरान ब्रेथ एनलाइजर जांच कराई जा सकती है या नहीं, इस पर फैसला करते समय मेडिकल बोर्ड को यात्रियों के साथ पायलटों और चालक दल के सदस्यों की सुरक्षा को भी ध्यान में रखने को कहा गया है। इसके साथ ही मामले की अगली सुनवाई पांच मई तक के लिए स्थगित कर दी गई है। इससे पहले बोर्ड को अपनी रिपोर्ट देने को कहा गया है।

पायलटों की याचिका पर सुनवाई के दौरान सोमवार का डीजीसीए ने न्यायालय को बताया था कि पिछले साल जून में एक चिकित्सकीय मंडल की सिफारिश में बीएटी की अनुमति दी गई थी। इस पर भारतीय वाणिज्यिक पायलट संघ (आईसीपीए) ने संक्रमण के बढ़ते मामलों के मद्देनजर अस्थायी रोक लगाने की मांग की है।

संबंधित खबरें