DA Image
2 दिसंबर, 2020|2:57|IST

अगली स्टोरी

प्रदूषण में पराली के धुएं की हिस्सेदारी 19 फीसदी पहुंची

default image

नई दिल्ली प्रमुख संवाददाता

दिल्ली के प्रदूषण में पराली के धुएं की हिस्सेदारी बढ़ती जा रही है। सफर के मुताबिक शनिवार को प्रदूषक कण 2.5 में पराली के धुएं की हिस्सेदारी 19 फीसदी तक रही, जो इस सीजन में पराली के धुएं से होने वाला यह सबसे अधिक प्रदूषण है।

दिल्ली के लोग 11 दिनों से लगातार खराब हवा में सांस ले रहे हैं। केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के मुताबिक शनिवार दिन का औसत वायु गुणवत्ता सूचकांक 287 अंक पर रहा। अगर इसकी तुलना शुक्रवार से करें तो वायु गुणवत्ता सूचकांक में 48 अंकों की बढ़ोतरी हुई है। सफर का अनुमान है कि अगले चौबीस घंटों के दौरान वातावरण में प्रदूषक कणों की मात्रा में बढ़ोतरी हो सकती है और वायु गुणवत्ता सूचकांक खराब से बेहद खराब श्रेणी तक जा सकती है। आसमान में हल्की धुंध से भी प्रदूषण के कारकों का बिखराव कमजोर होगा और प्रदूषण की परेशानी बढ़ सकती है।

दम घोंट रहा पराली का धुआं

पंजाब, हरियाणा और पाकिस्तान के सीमावर्ती हिस्से में जल रही पराली का असर दिल्ली के वातावरण पर पूरी तरह से दिखने लगा है। खास तौर पर प्रदूषक कण 2.5 में पराली की हिस्सेदारी शनिवार के दिन बढ़कर 19 फीसदी तक पहुंच गई। शुक्रवार को भी यह हिस्सेदारी 18 फीसदी तक थी। सफर के मुताबिक शुक्रवार के दिन पराली जलाने की लगभग 882 घटनाएं दर्ज की गईं हैं।

सुबह ठंड, दिन में गर्मी

दिल्ली में सुबह के समय ठंड का अहसास बढ़ा है। हालांकि दिन में अब भी तापमान सामान्य से ज्यादा रह रहा है। सफदरजंग मौसम केंद्र में दिन का अधिकतम तापमान 35 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया जो सामान्य से तीन डिग्री ज्यादा है। वहीं, न्यूनतम तापमान 16.8 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया जो सामान्य से तीन डिग्री कम है। मौसम विभाग का अनुमान है कि रविवार के दिन मौसम में हल्की धुंध देखने को मिल सकती है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Straw 39 s smoke share in pollution reaches 19 percent