DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

छात्रों ने धरनास्थल पर पढ़ाई शुरू की

कर्मचारी चयन आयोग (एसएससी) की परीक्षाओं में कथित धांधली के खिलाफ धरने पर बैठे छात्रों ने बुधवार को 16वें दिन भी विरोध जारी रखा। हालांकि, छात्रों ने धरनास्थल पर पढ़ाई भी शुरू कर दी है। सीजीओ कॉम्पलेक्स के बाहर बैठे छात्रों ने कहा कि उन्हें यहां लगातार बैठे रहने से पढ़ाई का नुकसान हो रहा था। 16 दिन से वे जमीन पर ही सोने के लिए मजबूर हैं।

प्रदर्शनकारी छात्रों ने कहा कि कड़ी धूप में लगातार खुले में बैठने से मुश्किलें बढ़ गई हैं। रात को मच्छर काट रहे हैं। आंदोलनकारी छात्र भीम गुलिया ने बताया कि 16 दिन से टिके रहने के बाद कई छात्रों की तबीयत खराब हो गई है। छात्र टॉयलेट, पीने के पानी और भोजन जैसी परेशानियों से जूझ रहे हैं। प्रदर्शनकारियों में दूसरे राज्यों से आए छात्र भी हैं। इनमें छात्राओं की संख्या भी काफी है। बुधवार को छात्रों ने धरनास्थल पर ही पढ़ाई शुरू कर दी। उन्होंने कई समूह में खुद को बांटकर अलग-अलग विषयों पर संवाद किया। वहीं, कुछ छात्र मेट्रो के किनारे बनी दीवार के सहारे किताब पढ़ते नजर आए। छात्र दीपेंद्र का कहना है कि यहां बठे हुए उन्हें दो सप्ताह से अधिक हो गए हैं। पढ़ाई प्रभावित हो रही है। हमने दोपहर को यहीं पर किताबें लेकर पढ़ना शुरू कर दिया। छात्रों ने समूह बनाकर अलग-अलग विषयों के बारे में एक दूसरे से सवाल-जवाब का खेल भी खेला।

कई इलाकों में घूम-घूमकर जनसंपर्क किया

छात्रों ने बुधवार को कई टीम बनाकर अलग-अलग इलाकों में लोगों से आंदोलन के लिए समर्थन मांगा। छात्र अमित के मुताबिक, वे आने वाले दिनों में आंदोलन का दायरा बढ़ाने के लिए अन्य छात्रों के हॉस्टल और आसपास के इलाकों में लोगों से आंदोलन में शामिल होने की अपील कर रहे हैं। मंगलवार रात और बुधवार को छात्रों ने मुखर्जी नगर में अन्य छात्रों को अपने साथ लाने के लिए महाभियान चलाया। छात्र अक्षय का कहना है कि शुक्रवार को सीजीओ कॉम्पलेक्स पर बड़े प्रदर्शन के लिए कहा गया है। इस दौरान दिल्ली और आसपास के इलाकों से कई हजार छात्रों के धरनास्थल पर पहुंचने की उम्मीद है।

छात्रों-शिक्षकों की कल भूख हड़ताल

एसएससी परीक्षाओं की वर्तमान या सेवानिवृत्त न्यायाधीश के निर्देशन में सीबीआई जांच की मांग पर अड़े छात्रों ने शुक्रवार को देशव्यापी भूख हड़ताल का ऐलान किया है। इसके लिए कोचिंग संस्थान चलाने वाले शिक्षकों ने भी उनका साथ देने की बात कही है। शिक्षकों ने देशभर के छात्रों से एसएससी परीक्षाओं में कथित धांधली के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे छात्रों को दिल्ली के सीजीओ कॉम्प्लेकस स्थित धरनास्थल पर पहुंचने की अपील भी की है। तीन साल से एसएससी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे छात्र रजत ने बताया कि शुक्रवार को धरनास्थल पर हजारों की संख्या में छात्र पहुंचेंगे। उन्होंने कहा कि जब तक हमारी मागें नहीं मानी जाती हैं तो हम इस धरना स्थल पर बैठे रहेंगे। अभी तो 16 दिन ही हुए हैं। हमें यहां रुकने में दिक्कतें हो रही हैं। अगर मांगे नहीं मांगी गईं तो हम एसएससी मुख्यालय के बाहर बेमियादी धरना देंगे।

बॉक्स

जब तक मांगे नहीं पूरी होंगी, धरना जारी रहेगा (छात्र की तस्वीर भी है)

देवेंद्र दो सप्ताह से सीजीओ कॉम्पलेक्स में प्रदर्शन कर रहे हैं। वे मध्यप्रदेश के बैतुल जिले के रहने वाले हैं। बताते हैं कि ‘मेरी मां की कैंसर से पहले ही मौत हो चुकी है। घर में पिता जी अकेले कमाने वाले हैं। घर में दो बड़ी बहने हैं और मैं सबसे छोटा हूं। मैं पिछले चार सालों से एसएससी सीजीएल की तैयारी कर रहा हूं। पिछले सालों में भी परीक्षाओं में धांधली की खबरें आती थीं, लेकिन इस बार तो हद ही हो गई है। हर दिन परीक्षा में कोई न कोई व्यक्ति धांधली करता पकड़ा जा रहा है। ऐसे में हमें अपने हक के लिए लगातार यहां धूप में बैठना पड़ रहा है। यहां कभी कोई खाना खिला देता है तो खा लेते हैं, नहीं तो भूखे भी रहना पड़ता है। मुझे कोई शौक नहीं है यहां परेशान होने का, लेकिन जब तक मांगें नहीं मानी जातीं तबतक यहां बैठने के अलावा कोई विकल्प नहीं है।

छात्रों की ये है मांग

-एसएससी की सीजीएल ही नहीं सभी परीक्षाओं की जांच सीबीआई करे और यह जांच किसी वर्तमान या सेवानिवृत्त न्यायधीश की निगरानी में हो।

-जांच पूरी होने तक अन्य परीक्षाओं पर रोक लगे।

-परीक्षा केंद्रों की बदतर स्थिति से निपटने के लिए उपाय किए जाएं। ऑनलाइन परीक्षा केंद्रों में छात्रों को परीक्षा के समय तकनीकी दिक्कत आने पर तुरंत मदद मिले। इसके लिए परीक्षा केंद्रों में हेल्पलाइन सेवा होनी चाहिए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:ssc