ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News NCR नई दिल्लीपीओके में हालात बिगड़े, पाक रेंजर्स ने तीन लोगों की गोली मार जान ली

पीओके में हालात बिगड़े, पाक रेंजर्स ने तीन लोगों की गोली मार जान ली

पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (पीओके) में सोमवार को पाक रेंजर्स की गोलीबारी में तीन आम लोगों की मौत हो गई और छह अन्य घायल हो गए। महंगाई के खिलाफ...

पीओके में हालात बिगड़े, पाक रेंजर्स ने तीन लोगों की गोली मार जान ली
हिन्दुस्तान टीम,नई दिल्लीTue, 14 May 2024 06:00 PM
ऐप पर पढ़ें

इस्लामाबाद, एजेंसी।
पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (पीओके) में सोमवार को पाक रेंजर्स की गोलीबारी में तीन आम लोगों की मौत हो गई और छह अन्य घायल हो गए। महंगाई के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे लोगों को खदेड़ने की कोशिश के दौरान पाक रेंजर्स प्रदर्शनकारियों से भिड़ गए और इस घटना को अंजाम दिया। इसके बाद से पीओके में हालात और भी ज्यादा खराब हो गए हैं।

पाकिस्तान के ‘डॉन अखबार की मंगलवार को प्रकाशित खबर में यह जानकारी सामने आई है। इसके मुताबिक, पीओके की राजधानी मुजफ्फराबाद में गेहूं के आटे की ऊंची कीमतों, बिजली के बढ़े हुए दामों और कर के खिलाफ शुक्रवार से जारी विरोध प्रदर्शन लगातार उग्र होते जा रहे हैं। इसमें कहा गया है, पाक रेंजर्स को कानून-व्यवस्था बनाए रखने के लिए यहां तैनात किया गया है। अर्धसैनिक बल का काफिला जब मुजफ्फराबाद की ओर आर रहा था तो प्रदर्शनकारियों ने उन पर पत्थरों से हमला कर दिया। काफिले में शामिल पांच ट्रकों समेत 19 वाहनों ने खैबर पख्तूनख्वा की सीमा से लगे गांव ब्रारकोट के बजाय कोहाला से क्षेत्र में आने का विकल्प चुना।

खबर के अनुसार, जैसे ही काफिला आक्रोशित माहौल में मुजफ्फराबाद पहुंचा, शोरां दा नक्का गांव के पास उस पर पत्थरों से हमला किया गया। इसके बाद पाक रेंजर्स को आंसू गैस के गोले छोड़ने पड़े और गोलीबारी करनी पड़ी। इसमें आगे कहा गया है, पश्चिमी बाईपास के रास्ते शहर में प्रवेश करने के बाद, पाक रेंजर्स पर फिर से पथराव हुआ, जिसके चलते उन्हें आंसूगैस और गोलियों का इस्तेमाल करना पड़ा। गोलाबारी इतनी भीषण थी कि पूरा इलाका दहल उठा। यह घटना उसी दिन सामने आई, जब प्रधानमंत्री शाहबाज शरीफ ने पीओके के लिए 23 अरब रुपये की सब्सिडी को मंजूरी दी थी।

---------------------

पीएम शाहबाज की सब्सिडी घोषणा पर भरोसा नहीं

गोलीबारी की यह घटना उसी दिन सामने आई, जब प्रधानमंत्री शाहबाज शरीफ ने पीओके के लिए 23 अरब रुपये की सब्सिडी को मंजूरी दी थी। पीओके में प्रदर्शन का नेतृत्व कर रही जम्मू-कश्मीर अवामी एक्शन कमेटी (जेएएसी) ने मंगलवार को कहा कि वह सरकार की घोषणा की कानूनी तौर पर जांच कराएगी। इसके बाद ही प्रदर्शन वापस लेने पर फैसला किया जाएगा। जेएएसी ने कहा, पीओके की सरकार इस मामले में गैर-जिम्मेदाराना रवैया अपनाती रही है।

आटा-बिडली सस्ती करने का वादा

सब्सिडी योजना के अनुसार, आटे की कीमत 3,100 से घटाकर 2,000 रुपये प्रति 40 किलोग्राम कर दी गई है। बिजली दरें पहली 100 यूनिट के लिए तीन रुपये प्रति यूनिट। 100 से 300 यूनिट के लिए पांच रुपये प्रति यूनिट, और 300 यूनिट से अधिक के लिए छह रुपये प्रति यूनिट होंगे। वाणिज्यिक बिजली दरें एक से तीन सौ यूनिट के स्लैब के लिए 10 प्रति यूनिट व तीन सौ यूनिट या उससे अधिक के स्लैब के लिए 15 प्रति यूनिट की गई हैं।

----------------------

ब्रिटेन में पाक के वाणिज्य दूतावास के बाहर कश्मीरी जुटे

पीओके में पाकिस्तान की बढ़ती अमानवीयता के खिलाफ ब्रिटेन में रहने वाले कश्मीरी सोमवार को ब्रैडफोर्ड शहर में पाकिस्तानी वाणिज्य दूतावास के बाहर एकत्रित हुए। पाकिस्तान के खिलाफ विरोध प्रदर्शन का आयोजन यूनाइटेड कश्मीर पीपुल्स नेशनल पार्टी (यूकेपीएनपी) ने किया। प्रदर्शन के दौरान पार्टी के कई नेताओं और कश्मीरी प्रवासी लोगों ने पीओके के लोगों को प्रति अपना समर्थन जताया। उन्होंने पीओके में पाक रेंजर्स समेत अन्य अर्धसैनिक बलों की तैनाती की निंदा भी की।

शांतिपूर्ण प्रदर्शनकारियों की हत्या ‘अस्वीकार्य : एमक्यूएम

ब्रिटेन में मुत्तहिदा कौमी मूवमेंट (एमक्यूएम) के संस्थापक अल्ताफ हुसैन ने पीओके में पाकिस्तानी बलों द्वारा शांतिपूर्ण प्रदर्शनकारियों की हत्या की निंदा करते हुए इसे ‘अस्वीकार्य करार दिया। लंदन में पार्टी के केंद्रीय सचिवालय से जारी एक बयान में हुसैन ने कहा, यह उग्र और उकसाने वाली घटना निंदनीय है। हुसैन ने कहा, मैं विरोध प्रदर्शन में शामिल शांतिपूर्ण कश्मीरियों पर पाक रेंजर्स द्वारा की गई गोलीबारी की निंदा करता हूं।

--------------

इस तरह भड़की पीओके में हिंसा

- गत शुक्रवार को पीओके में रोजमर्रा की चीजों के बढ़ते दामों को लेकर प्रदर्शन शुरू हुए। लोग शांतिपूर्वक प्रदर्शन कर रहे थे, लेकिन मौके पर मौजूद पुलिस ने निहत्थे लोगों पर लाठीचार्ज कर दिया। इसके कारण महिलाओं और स्कूली बच्चों को चोट लगी थी। पाकिस्तान पुलिस के वीडियो भी वायरल हुए थे।

- पुलिस की हिंसा के बाद प्रदर्शन बड़े स्तर पर शुरू हो गए। पुलिस ने जब फिर से प्रदर्शनकारियों पर लाठी चलाना शुरू किया तो वे उग्र हो गए। उन्होंने पुलिस पर हमला कर दिया। इस हमले में एक पुलिसकर्मी की मौत हो गई, वहीं 100 से ज्यादा लोग घायल हो गए।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।
हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें