ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News NCR नई दिल्लीपार्टी विभाजन से बचने को हुई थी शरद-अजीत की मुलाकात : जयंत

पार्टी विभाजन से बचने को हुई थी शरद-अजीत की मुलाकात : जयंत

नागपुर, एजेंसी। राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के संस्थापक शरद पवार और महाराष्ट्र के डिप्टी पार्टी विभाजन से बचने को हुई थी शरद-अजीत की मुलाकात :...

पार्टी विभाजन से बचने को हुई थी शरद-अजीत की मुलाकात : जयंत
हिन्दुस्तान टीम,नई दिल्लीWed, 06 Dec 2023 11:30 PM
ऐप पर पढ़ें

नागपुर, एजेंसी। राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के संस्थापक शरद पवार और महाराष्ट्र के डिप्टी सीएम अजीत पवार ने अगस्त में पुणे में एक उद्योगपति के आवास पर एक बंद दरवाजे की बैठक की थी। इसमें पार्टी में औपचारिक विभाजन से बचने की संभावना पर चर्चा की गई थी। वरिष्ठ एनसीपी नेता जयंत पाटिल ने बुधवार को यह बात एकनाथ शिंदे सरकार में शामिल होने के कुछ हफ्ते बाद कही।
राकांपा (शरद पवार गुट) की राज्य इकाई के अध्यक्ष जयंत पाटिल ने कहा कि अजित पवार के सत्तारूढ़ खेमे में जाने के बाद 24 साल पुरानी पार्टी में विभाजन को टालना गुप्त बैठक का एकमात्र एजेंडा था। बैठक में राज्य के पूर्व मंत्री पाटिल भी मौजूद थे।

यहां एक क्षेत्रीय समाचार चैनल से से उन्होंने कहा, एक उद्योगपति के आवास पर बैठक केवल पार्टी में संभावित विभाजन से बचने के लिए थी। यही एकमात्र मुद्दा था जिस पर मेरे सामने चर्चा हुई।

अजीत पवार ने अपने चाचा शरद पवार से बगावत करने और 2 जुलाई को अपने वफादार आठ विधायकों के साथ कैबिनेट मंत्री के रूप में शपथ लेने के कुछ हफ्तों बाद अगस्त के मध्य में अपने चाचा शरद पवार से मुलाकात की।

पाटिल ने कहा, हम सभी पिछले 25 साल से पार्टी में हैं। मेरी कोशिश पार्टी में विभाजन को टालने की थी। पार्टी हम सभी की है। इसीलिए मैं दोनों पक्षों (एनसीपी गुटों) के संपर्क में था, जिससे मेरी वफादारी बदलने की अटकलें तेज हो गईं। पूर्व राज्य मंत्री ने कहा कि एक राजनीतिक दल राजनेताओं और आम नागरिकों के बीच एक सेतु का काम करता है।

उन्होंने कहा, जब आप एक पार्टी बनाते हैं, तो आप अधिक से अधिक लोगों से जुड़ते हैं। शरद पवार के मार्गदर्शन में राकांपा सक्षम लोगों की पार्टी बन गई है। अजित पवार के पाला बदलने के बाद भी एनसीपी (शरद पवार गुट) यह कहती रही है कि पार्टी में कोई विभाजन नहीं हुआ है।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।
हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें