DA Image
Tuesday, November 30, 2021
हमें फॉलो करें :

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ NCR नई दिल्लीकंगना से पद्मश्री सम्मान वापस लिया जाए: दिल्ली महिला आयोग

कंगना से पद्मश्री सम्मान वापस लिया जाए: दिल्ली महिला आयोग

हिन्दुस्तान टीम,नई दिल्लीNewswrap
Sun, 14 Nov 2021 09:20 PM
कंगना से पद्मश्री सम्मान वापस लिया जाए: दिल्ली महिला आयोग

मांग

- दिल्ली महिला आयोग ने राष्ट्रपति को पत्र लिखा

- कहा- कंगना की टिप्पणी से लोगों की भावनाएं आहत हुईं

नई दिल्ली। प्रमुख संवाददाता

दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को पत्र लिखकर कंगना रनौत से पद्मश्री सम्मान वापस लेने की मांग की है। साथ ही अभिनेत्री के खिलाफ देशद्रोह के आरोप में प्राथमिकी दर्ज करने का अनुरोध भी किया है।

आयोग के मुताबिक कंगना रनौत ने हाल ही में एक टीवी शो में एक अपमानजनक टिप्पणी की थी जिसने करोड़ों लोगों की भावनाओं को ठेस पहुंचाया था। आयोग की अध्यक्ष ने राष्ट्रपति से इन टिप्पणियों पर तत्काल संज्ञान लेने के लिए कहा जो न केवल अपमानजनक हैं, बल्कि हमारे स्वतंत्रता सेनानियों द्वारा किए गए बलिदानों की पूरी तरह से अवहेलना है।

पत्र में मालीवाल ने लिखा हैं कि हमारे महान स्वतंत्रता सेनानियों जैसे महात्मा गांधी, भगत सिंह और अनगिनत अन्य लोगों ने हमारे राष्ट्र को स्वतंत्रता दिलाने के लिए अपने प्राणों की आहुति दी है। रनौत के बयानों ने लाखों भारतीयों की भावनाओं को आहत किया है। ये बयान देशद्रोह है।

मालीवाल ने अभिनेत्री कंगना से पद्मश्री पुरस्कार को वापस लेने की मांग की क्योंकि उनके मुताबिक अपनी टिप्पणियों की वजह से कंगना ने इस सम्मान को पाने का हक खो दिया है और यदि पुरस्कार वापस ना लिया गया तो यह उन दिग्गजों का अपमान होगा, जिन्हें उनसे पहले यह पुरस्कार मिला है। इसलिए तुरंत ठोस कदम उठाए जाए।

-------------------------

कंगना की टिप्पणी का अभिनेता विक्रम गोखले ने समर्थन किया

पुणे। मराठी अभिनेता विक्रम गोखले ने बॉलीवुड अभिनेत्री कंगना रनौत के विवादास्पद बयान का रविवार को समर्थन किया। महाराष्ट्र के पुणे में आयोजित एक कार्यक्रम में गोखले ने कहा कि रनौत ने जो कहा था उसमें कुछ गलत नहीं है। उन्होंने कहा,‘मैं रनौत के बयान से सहमत हूं। हमें आजादी दी गई थी। (ब्रिटिश राज में) जब स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों को फांसी दी जा रही थी तब तब बहुत से लोग मूकदर्शक मात्र थे।

सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

संबंधित खबरें