ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ NCR नई दिल्लीबुजुर्ग रेल यात्रियों को किराये में रियायत पर विचार नहीं : वैष्णव

बुजुर्ग रेल यात्रियों को किराये में रियायत पर विचार नहीं : वैष्णव

--चुनौतियों के बावजूद दिव्यांग की चार श्रेणियों, रोगियों और विद्यार्थियों की 11 श्रेणियों के...

बुजुर्ग रेल यात्रियों को किराये में रियायत पर विचार नहीं : वैष्णव
Newswrapहिन्दुस्तान टीम,नई दिल्लीFri, 22 Jul 2022 09:10 PM
ऐप पर पढ़ें

--चुनौतियों के बावजूद दिव्यांग की चार श्रेणियों, रोगियों और विद्यार्थियों की 11 श्रेणियों के लिए रेल किराये में रियायत जारी

नई दिल्ली, एजेंसी। रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव ने शुक्रवार को कहा कि विभिन्न चुनौतियों के मद्देनजर वरिष्ठ नागरिकों सहित सभी श्रेणियों के रेल यात्रियों को रियायतें देने का विचार नहीं है। वैष्णव ने हालांकि कहा कि चुनौतियों के बावजूद भारतीय रेल ने दिव्यांग की चार श्रेणियों, रोगियों और विद्यार्थियों की 11 श्रेणियों के लिए किराये में रियायत जारी रखी है।

एक सवाल के लिखित जवाब में रेल मंत्री ने कहा कि भारतीय रेल वरिष्ठ नागरिकों सहित सभी यात्रियों की औसतन यात्रा की लागत का 50 प्रतिशत से अधिक भार पहले से ही वहन कर रही है। इसके अलावा, कोविड-19 के कारण पिछले दो वर्ष की यात्री आमदनी 2019-2020 की तुलना में कम है। इसका रेलवे की वित्तीय स्थिति पर दीर्घकालिक प्रभाव पड़ा है। रियायत देने की कीमत रेलवे पर बहुत भारी पड़ती है। वैष्णव ने कहा कि इसलिए वरिष्ठ नागरिकों सहित सभी श्रेणियों के यात्रियों को रियायतें देने का दायरा बढ़ाना वांछनीय नहीं है। इन चुनौतियों के बावजूद, भारतीय रेल ने दिव्यांग व्यक्तियों की चार श्रेणियों, रोगियों और विद्यार्थियों की 11 श्रेणियों के लिए किराए में रियायत जारी रखी है।

अश्विनी वैष्णव ने कहा कि रेलवे गरीब रथ, राजधानी, शताब्दी, दुरंतो, वंदे भारत, गतिमान, तेजस, हमसफर, मेल व एक्सप्रेस, साधारण पैसेंजर आदि जैसी विभिन्न प्रकार की रेल सेवाओं का परिचालन करती है। इसके अलावा, वरिष्ठ नागरिकों सहित सभी यात्रियों के उपयोग के लिए विभिन्न किराया संरचनाओं पर 1एसी, 2एसी, 3एसी, एसी चेयर कार शयनयान श्रेणी, दवितीय श्रेणी आरक्षित और अनारक्षित जैसी विभिन्न श्रेणियां उपलब्ध हैं। इनमें यात्री अपनी प्राथमिकताओं के अनुसार यात्रा कर सकते हैं। रेल मंत्री ने कहा कि 2019-20 के दौरान 22.62 लाख वरिष्ठ नागरिकों ने यात्री किराए में रियायत स्कीम को छोड़ने का विकल्प चुना था और बेहतर सुविधाओं के साथ रेलवे के सतत विकास के लिए रियायतें छोड़ दी थी।

यात्री ट्रेनों का संचालन निजी संचालकों को देने का कोई प्रस्ताव नहीं :

रेल मंत्री ने शुक्रवार को राज्यसभा को बताया कि यात्री ट्रेनों का संचालन निजी संचालकों को सौंपने संबंधी कोई प्रस्ताव उनके सामने विचाराधीन नहीं है। राष्ट्रीय परिवहन की अपने नेटवर्क में चरणबद्ध तरीके से निजी ट्रेनों की शुरुआत करने की योजना है। कुछ ट्रेनों के संचालन की शुरुआत 2023-24 में हो जाएगी और 2027 तक सभी 151 ऐसी ट्रेनों का परिचालन होने लगेगा। इसके लिए निविदा प्रक्रिया में केवल दो बोलीकर्ताओं आईआरसीटीसी और मेघा इंजीनियरिंग एंड इन्फ्रास्ट्रक्चर्स ने ही दिलचस्पी दिखाई है। निजी क्षेत्र की ओर से दिलचस्पी न दिखाए जाने की वजह से इस प्रस्ताव को फिलहाल ठंडे बस्ते में डाल दिया गया है।

रेल यात्रा में समय और सुरक्षा महत्वपूर्ण : रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव ने शुक्रवार को राज्यसभा में कहा कि रेल परिचालन में समयबद्धता और सुरक्षा महत्वपूर्ण है इसलिए रेलगाड़ियों के 2500 से अधिक ठहराव समाप्त कर दिए गए हैं। वैष्णव ने सदन में प्रश्नकाल के दौरान एक प्रश्न के जवाब में कहा कि रेलगाड़ियों का समय पर पहुंचना और यात्रियों की सुरक्षा बहुत महत्वपूर्ण है। रेलगाड़ी की मरम्मत और रखरखाव के लिए कम से कम तीन घंटे का समय चाहिए। यह समय निकालने के लिए लंबी दूरी की कई रेलगाड़ियों के ठहराव घटाए गए हैं। उन्होंने कहा कि रेलगाड़ियों का समय पर रख-रखाव और उचित मरम्मत आवश्यक है। यह यात्रियों की सुरक्षा के लिए जरूरी है।

कुल 2359 किसान रेल चलीं : रेल मंत्री ने एक सवाल के लिखित जवाब में कहा कि सात अगस्त 2020 को किसान रेल सेवाओं के शुरू होने के बाद 30 जून 2022 तक रेलवे ने करीब 2359 ऐसी ट्रेन का संचालन किया। उन्होंने कहा कि इस अवधि के दौरान शीघ्र खराब होने वाली करीब 7.9 लाख टन वस्तुओं की ढुलाई की गई।

--------------------------

छूट देने के लिए सरकार के पास 1500 करोड़ रुपये नहीं: राहुल

नई दिल्ली। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने रेल किराये में वरिष्ठ नागरिकों को छूट नहीं दिए जाने को लेकर केंद्र सरकार पर निशाना साधते हुए शुक्रवार को कहा कि सरकार के पास 8400 करोड़ रुपये का हवाई जहाज खरीदने के लिए पैसे हैं, लेकिन रेल किराये में बुजुर्गों को रियायत देने के लिए 1500 करोड़ रुपये नहीं हैं।

--------------------

वरुण बोले, बुजुर्गों को रियायत पर विचार करे सरकार : भाजपा नेता वरुण गांधी ने रेल किराये में वरिष्ठ नागरिकों को दी जाने वाली छूट को खत्म करने के केंद्र सरकार के निर्णय पर कहा कि एक ओर जहां सांसदों को रेल किराये में रियायत मिल रही है, वहीं बुजुर्गों को दी जाने वाली इस छूट को बोझ के तौर पर क्यों देखा जा रहा है। वरुण गांधी सरकार से इस पर पुनर्विचार करने का अनुरोध किया।

epaper