ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ NCR नई दिल्लीबुनियादी ढांचा से जुड़ी परियोजनाओं के लिए धन की कमी नहीं : गोयल

बुनियादी ढांचा से जुड़ी परियोजनाओं के लिए धन की कमी नहीं : गोयल

केंद्र सरकार ने शुक्रवार को राज्यसभा में कहा है कि बुनियादी ढांचा से जुड़ी परियोजनाओं के लिए धन की कमी नहीं है। भविष्य में न ही ऐसा होने दिया...

बुनियादी ढांचा से जुड़ी परियोजनाओं के लिए धन की कमी नहीं : गोयल
Newswrapहिन्दुस्तान टीम,नई दिल्लीSat, 06 Aug 2022 02:20 AM
ऐप पर पढ़ें

राज्यसभा

- केंद्रीय उद्योग मंत्री ने शून्यकाल में कहा, परियोजना में विलंब होने के कई अन्य कारण

1514 परियोजनाओं में से करीब 700 में हो रही देरी

नई दिल्ली, विशेष संवाददाता।

केंद्र सरकार ने शुक्रवार को राज्यसभा में कहा है कि बुनियादी ढांचा से जुड़ी परियोजनाओं के लिए धन की कमी नहीं है। भविष्य में न ही ऐसा होने दिया जाएगा। वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री पीयूष गोयल ने शून्यकाल में ये बातें कही। उन्होंने कहा कि अगर ऐसी किसी परियोजना में विलंब हो रहा है तो इसका कारण समय पर जमीन का अधिग्रहण न हो पाना, कोई विवाद या कुछ और है।

तृणमूल कांग्रेस के नदीमुल हक ने पश्चिम बंगाल में स्मार्ट सिटी, सड़क, रेलवे, पेट्रोलियम सहित अवसंरचना संबंधी केंद्रीय परियोजनाओं में विलंब का मुद्दा उच्च सदन में उठाया। उन्होंने कहा कि 1,514 परियोजनाओं में से करीब 700 में अलग-अलग कारणों से विलंब हो रहा है। हक ने कुछ परियोजनाओं का जिक्र करते हुए बताया कि ये परियोजनाएं लंबे समय से अटकी हैं। इसका कारण कोरोना महामारी से लेकर समय पर केंद्र की ओर से धन नहीं दिया जाना आदि हैं।

भाजपा की सुमित्रा ने 1 अगस्त को मध्यप्रदेश के जबलपुर में एक निजी अस्पताल में आग लगने का मुद्दा सदन में उठाया। उन्होंने कहा कि पहले भी इस तरह के हादसे हुए हैं और लोगों की जान गई है। उन्होंने मांग की ऐसे हादसों से सबक सीख कर इनकी पुनरावृत्ति रोकने के लिए कदम उठाए जाने चाहिए।

-

झारखंड में धान के बीज खराब होने का मुद्दा उठाया

भाजपा के ही आदित्य प्रसाद ने झारखंड में अब तक पर्याप्त बारिश न होने की वजह से धान के बीज खराब होने का मुद्दा उठाया। उन्होंने कहा कि वहां पर धान की रोपाई केवल 12 प्रतिशत ही हो पाई है। इसी दल के दीपक प्रकाश ने मांग की कि केंद्र सरकार को झारखंड में एक विशेष जांच दल भेजकर स्थिति का आकलन करना चाहिए।

-

यूजीसी स्कॉलरशिप न मिलने की शिकायत

आईयूएमएल के अब्दुल वहाब ने विश्वविद्यालयों में कोविड काल के बाद अनुसंधान के लिए धन की कमी होने का मुद्दा उठाया। उन्होंने यूजीसी स्कॉलरशिप न मिलने की भी शिकायत की।

-

त्रिवेंद्रम में एक दशक बाद भी रेल टर्मिनल कागजों पर

माकपा के जॉन ब्रिटस ने केरल के त्रिवेंद्रम रेलवे स्टेशन के एक टर्मिनल का मुद्दा उठाते हुए कहा कि एक दशक के बाद यह टर्मिनल कागजों पर ही है। इससे पहले, बैठक एक बार के स्थगन के बाद साढ़े ग्यारह बजे पुन: शुरू होने पर सभापति नायडू ने शेष रह गए वे आवश्यक दस्तावेज सदन के पटल पर रखवाए, जो 11 बजे बैठक शुरू होने पर विपक्षी सदस्यों के हंगामे के कारण पटल पर नहीं रखे जा सके थे। हंगामे की वजह से सदन की कार्यवाही शुरू होने के दो मिनट बाद ही आधे घंटे के लिए स्थगित कर दी गई थी।

epaper