ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ NCR नई दिल्लीबच्चे गोद लेने की प्रक्रिया को व्यवस्थित करने की जरूरत : कोर्ट

बच्चे गोद लेने की प्रक्रिया को व्यवस्थित करने की जरूरत : कोर्ट

सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को कहा कि भारत में बच्चे को गोद लेने की प्रक्रिया बहुत कठिन है। इसकी प्रक्रियाओं को सुव्यवस्थित करने की तत्काल जरूरत है।...

बच्चे गोद लेने की प्रक्रिया को व्यवस्थित करने की जरूरत : कोर्ट
Newswrapहिन्दुस्तान टीम,नई दिल्लीSat, 06 Aug 2022 03:10 AM
ऐप पर पढ़ें

नई दिल्ली, एजेंसी।

सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को कहा कि भारत में बच्चे को गोद लेने की प्रक्रिया बहुत कठिन है। इसकी प्रक्रियाओं को सुव्यवस्थित करने की तत्काल जरूरत है। क्योंकि, देश में तीन करोड़ बच्चे अनाथ हैं।

न्यायमूर्ति डीवाई चंद्रचूड़ और न्यायमूर्ति जेबी पारदीवाला की पीठ ने केंद्र की ओर से पेश अतिरिक्त सॉलिसिटर जनरल (एएसजी) केएम नटराज से देश में बच्चों को गोद लेने की प्रक्रिया को कारगर बनाने के लिए कदम उठाये जाने के अनुरोध संबंधी एक जनहित याचिका पर अपना जवाब दाखिल करने को कहा।

पीठ ने कहा, हमारे जनहित याचिका पर नोटिस जारी करने का कारण यह है कि भारत में बच्चे को गोद लेने की प्रक्रिया बहुत कठिन है। अदालत ने नटराज को जनहित याचिकाकर्ता द टेंपल ऑफ हीलिंग के सुझावों पर विचार करने और प्रक्रिया को कारगर बनाने के लिए उठाए गए कदमों के बारे में जवाब दाखिल करने को कहा।

एएसजी ने कहा कि उन्हें एनजीओ की विश्वसनीयता के बारे में पता नहीं है। याचिका की एक प्रति उन्हें नहीं दी गई है। पीठ ने एनजीओ की ओर से पेश पीयूष सक्सेना को याचिका की एक प्रति नटराज को देने के लिए कहा, ताकि वह अपना जवाब दाखिल कर सकें। अगली सुनवाई तीन सप्ताह बाद होगी।

epaper