ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News NCR नई दिल्लीनगालैंड को मिला राज्य का पहला मेडिकल कॉलेज

नगालैंड को मिला राज्य का पहला मेडिकल कॉलेज

स्वास्थय मंत्री मनसुख मंडाविया ने किया मेडिकल कॉलेज का उद्घाटन -100 सीटों के साथ नागालैंड को मिला राज्य का पहला मेडिकल...

नगालैंड को मिला राज्य का पहला मेडिकल कॉलेज
हिन्दुस्तान टीम,नई दिल्लीSat, 14 Oct 2023 11:10 PM
ऐप पर पढ़ें

स्वास्थय मंत्री मनसुख मंडाविया ने किया मेडिकल कॉलेज का उद्घाटन
-100 सीटों के साथ होगी मेडिकल कॉलेज की शुरुआत

- 85 सीटें नागालैंड और 15 अन्य राज्यों के लिए निर्धारित

कोहिमा, एजेंसी। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया ने शनिवार को नगालैंड के पहले मेडिकल कॉलेज ‘नगालैंड इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज एंड रिसर्च (एनआईएमएसआर) का उद्घाटन किया। मंडाविया ने मुख्यमंत्री नेफ्यू रियो, उप मुख्यमंत्री टीआर जेलियांग, राज्य के मंत्रियों, विधायकों और नौकरशाहों की उपस्थिति में उद्घाटन समारोह में मोनोलिथ का अनावरण किया।

मेडिकल कॉलेज में 100 सीटें हैं जिनमें 85 नगालैंड और 15 अन्य राज्यों के लिए निर्धारित की गई हैं। समारोह को संबोधित करते हुए मंडाविया ने कहा कि राज्य का पहला मेडिकल कॉलेज न केवल चिकित्सा शिक्षा प्रदान करेगा बल्कि यह एक अनुसंधान केंद्र भी होगा।

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में केंद्र सरकार देश के हर हिस्से में स्वास्थ्य सुविधाएं स्थापित करना चाहती है। समय की मांग को देखते हुए मेडिकल और नर्सिंग शिक्षा को मजबूत करने की जरूरत है। वर्ष 2014 में देश में लगभग 64 हजार एमबीबीएस सीटें थीं और इसमें कई गुना वृद्धि हुई है। इसी तरह पीजी सीटें भी पिछले नौ वर्षों में दोगुनी हो गई हैं। उन्होंने नागालैंड सरकार से राज्य की हर स्वास्थ्य सुविधा में जन औषधि केंद्र शुरू करने को कहा और केंद्र के पूर्ण समर्थन का आश्वासन दिया।

सीएम रियो ने कहा कि यह नगालैंड के लोगों के लिए एक ऐतिहासिक दिन है। क्योंकि उनका मेडिकल कॉलेज का सपना पूरा हो गया है। उन्होंने कहा, राज्य में डॉक्टरों की भारी कमी है और माध्यमिक और तृतीयक स्तर की स्वास्थ्य देखभाल में भी कमियां हैं। उन्हें उम्मीद है कि नई सुविधा उत्कृष्टता के केंद्र के रूप में विकसित होगी। रियो ने लोगों से एनआईएमएसआर में पढ़ने के लिए दूसरे राज्यों से आने वाले छात्रों के लिए विशेष देखभाल और प्यार सुनिश्चित करने का आग्रह किया, ताकि वे राज्य के राजदूत बन सकें।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।
हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें