DA Image
17 नवंबर, 2020|5:06|IST

अगली स्टोरी

शर्मनाक: घायल पानी मांगता रहा और लोग वीडियो बनाते रहे, हुई मौत 

delhi crime

ख्याला इलाके में दिलेर दिल्ली का बदनुमा चेहरा सामने आया , जिसमें एक शख्स को चाकू मारकर हमलावर फरार हो गये। वहीं घायल युवक पानी मांगता रहा। लेकिन लोग मोबाइल से वीडियो बनाने में जुटे रहे। बाद में एक शख्स ने उसकी मदद की और पुलिस को फोन कर घायल युवक को अस्पताल पहुंचाया। जहां उसकी मौत मौत हो गई। हालांकि पुलिस ने इस मामले में हत्या का केस दर्ज कर दो आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। हालांकि परिजनों का आरोप है कि इस हत्या को पांच लोगों ने मिलकर अंजाम दिया है। घटना मंगलवार की है। 

पश्चिमी जिले के डीसीपी विजय सिंह ने बताया कि मरने वाले शख्स की पहचान मृतक की पहचान जेजे कॉलोनी के रहने वाले 25 साल के अकबर अली के रूप में हुई है। परिजनों ने बताया कि अकबर को सुबह नौ बजे तब मारा गया जब वह ख्याला में स्थित अपने घर से वैल्डिंग करने जा रहा था। उसके भाई नजरे इमाम ने बताया कि बताया कि 5 लोगों ने पहले उसकी आंखों में मिर्च डाली, फिर पीछे से चाकू से वार किया। इसके बाद लोग उसे घायल समझकर भाग गये। उसे चाकू मंगलवार को गली नंबर 1, वेस्ट ब्लॉक, विष्णु गार्डन में मारा गया। वहीं जांच में सामने आया है कि मरने वाले पर पहले से आपराधिक केस दर्ज हैं। इनमें झपटमारी और छेड़छाड़ का केस भी है। अकबर पेशे से वैल्डर है। हालांकि पुलिस ने इस मामलें में बाद जेजे कॉलोनी के रहने वाले मोहम्मद शुभान और 24 साल के मोहम्मद अबजल को गिरफ्तार किया है। आरोपी भी वैल्डर है, हालांकि दोनों आरोपियों पर पहले का कोई केस नहीं है। हालांकि जब उसे चाकू मारा गया तो इस दौरान लोग वीडियो बनाने में लगे रहे लेकिन उसे किसी ने अस्पताल नहीं पहुंचाया, बाद में किसी शख्स ने पुलिस को 100 नंबर पर फोन कर मामले की जानकारी दी। जिसके बाद उसे पहले गुरु गोविंद सिंह अस्पताल ले जाया गया, स्थिति गंभीर होने पर उसे दीनदयाल अस्पताल ले जाया गया। जहां उसकी मौत हो गई। 

रंगदारी मांगने का आरोप 

पुलिस को पूछताछ में दोनों आरोपियोंने बताया कि अकबर आये दिन लोगों से रंगदारी मांगता था, मंगलवार को भी वह पैसों की मांग कर रहा था। पहले  हाथापाई हुई, उसके बाद चाकू आरोपियों ने उसी को घोंप दिए। डीसीपी विजय कुमार ने बताया कि मामले की जांच की जा रही है। 

परिजन बोले, मुख्य आरोपी को नहीं पकड़ रही पुलिस 

अकबर के बड़े भाई नजरे इमाम ने बताया कि परिवार में मां शकीला, भाई हसने इमाम और अकबर था। पिता अनवर अली की काफी पहले मौत हो चुकी है। नजरे ने आरोप लगाया कि  इस मामले में एक आरोपी शरीफ ने इस वारदात को अंजाम दिया है। पूरे हत्याकांड में पांच लोग शामिल हैं। उन्होंने आरोप लगाया कि शरीफ को शक था उसकी पत्नी से उसके भाई से संबंध है, इस बावत उसने 10 दिन पहले आकर झगड़ा भी किया था। उसने ही उनके भाई को मारा है। साथ ही उन्होंने इस मामले में पुलिस के रवैये पर भी सवाल खड़े किए, उन्होंने कहा कि जब पुलिस को मालूम है कि गुरु गोविंद सिंह अस्पताल में सुविधाएं नहीं हैं तो पहले ही क्यो उन्हें डीडीयू अस्पताल नहीं ले गये। अगर उनके भाई को पहले डीडीयू ले गये होते तो उनकी जान बच गई होती।