ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News NCR नई दिल्ली4 साल पुराने हत्या के मामले में आरोपी को मिली जमानत, कोर्ट ने कहा-साथियों के खुलासे के अलावा और कोई सबूत नहीं

4 साल पुराने हत्या के मामले में आरोपी को मिली जमानत, कोर्ट ने कहा-साथियों के खुलासे के अलावा और कोई सबूत नहीं

सुनवाई के दौरान आरोपी की ओर से पेश वकील ने दलील दी थी कि हत्या के दूसरे मामले में गिरफ्तार सह आरोपियों के बयान के आधार पर वर्तमान मामले में आरोपी जोगिंदर को झूठे आरोपों में फंसाया गया।

4 साल पुराने हत्या के मामले में आरोपी को मिली जमानत, कोर्ट ने कहा-साथियों के खुलासे के अलावा और कोई सबूत नहीं
Aditi SharmaANI,नई दिल्लीSat, 25 Nov 2023 06:44 PM
ऐप पर पढ़ें

दिल्ली की रोहिणी सेशन कोर्ट ने 4 साल पुराने हत्या के मामले में एक आरोपी को जमानत दे दी है। मामला साल 2019 में लूटपाट की कोशिश के दौरान हत्या से जुड़ा है। कोर्ट ने कहा कि आरोपी 27 अप्रैल, 2019 से न्यायिक हिरासत में है और सह आरोपियों के खुलासे वाले बयान के अलावा उसके खिलाफ और कोई सबूत नहीं है। अतिरिक्त सत्र न्यायधिश विक्रम ने कहा, हम इस बात को नजरअंदाज नहीं कर सकते हैं कि जांच एजेंसी ने जांच पूरी कर ली है और चार्जशीट दायर कर दी है लेकिन जरूरी आरोप तय नहीं किए हैं। ऐसे में आगे की जांच के दौरान याचिकाकर्ता का हिरासत में रहना जरूरी नहीं है। 

वहीं सुनवाई के दौरान आरोपी की ओर से पेश वकील रवि द्राल ने दलील दी थी कि हत्या के दूसरे मामले में गिरफ्तार सह आरोपियों के बयान के आधार पर वर्तमान मामले में आरोपी जोगिंदर को झूठे आरोपों में फंसाया गया। यहां तक कि सह आरोपियों के बयान में जो नाम दर्ज है वो जोगिंदर नहीं बल्कि किसी सोनू का है। उन्होंने कहा, जोगिंदर को हत्या से पहले सह आरोपियों को फोन करने के मामले में गिरफ्तार किया गया है लेकिन ना तो वो फोन जोगिंदर का है जो पुलिस को मिला है और ना ही सिम।  इसके अलावा ना तो वो सीसीटीवी फुटेज में दिखा और ना ही  उसके पास वो कपड़े मिले जो सीसीटीवी फुटेज में दिख रहे शख्स ने पहने थे। हालांकि दिल्ली पुलिस की ओर से पेश वकील ने जमानत याचिका का विरोध किया और कहा कि आरोप बहुत गंभीर हैं।

उन्होंने कहा, आरोपी आदतन अपराधी और  7 अन्य मामलों में भी शामिल है। इसके अलावा वो बहार आकर गवाहों को धमकी भी दे सकता है।  बता दें ये मामला 28 फरवरी, 2019 का है। एक व्यक्ति (मृतक) एक व्यवसायी से 1,75 लाख रुप8ए का बकाया वसूल कर अपनी मोटरसाइकिल से जा रहा था। इसी दौरान कुछ बदमाशों ने पैसों से भरा बैग छीनने की कोशिश में उसे गोली मार दी गई, लेकिन फिर भी उन्हें बैग नहीं मिल सका। लूटपाट की ये घटना पास के सीसीटीवी में कैद हो गई।

इस वारदात में शामिल दूसरे आरोपियों को को लगभग 1 महीने के बाद एक अन्य हत्या के मामले में गिरफ्तार किया गया, जिसमें उन्होंने वर्तमान मामले में अपनी संलिप्तता कबूल की थी, और चार्जशीट प्रस्तुत करने के बाद, मामला सत्र न्यायालय रोहिणी को सौंप दिया गया था। संबंधित वकीलों ने कहा कि मामला एफएसएल रिपोर्ट के इंतजार में लंबे समय से लंबित था, जो अक्टूबर 2023 में प्रस्तुत की गई थी। 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें