अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

निगम आयुक्त को मेयर के भ्रष्टाचार की लिखित शिकायत दी गई थी: पांडे

आम आदमी पार्टी ने उत्तरी दिल्ली नगर निगम की मेयर पर लगे भ्रष्टाचार के मामले में एक नया खुलासा किया है। आप के राष्ट्रीय प्रवक्ता दिलीप पांडे ने कहा, मेयर प्रीति अग्रवाल के भ्रष्टाचार को लेकर निगम के एक अफसर ने निगमायुक्त को लिखित शिकायत दी थी। उसके बाद भी इस मामले को दबाने का भरपूर प्रयास हुआ। उम्मीद है कि अब इतने बड़े सबूत सामने आने के बाद भाजपा अपने मेयर के खिलाफ सख्त कार्रवाई करेगी।

गुरुवार को पार्टी दफ्तर में आयोजित एक प्रेसवार्ता में पांडे ने कहा, भाजपा के राज में घोटालेबाजों की जमकर मौज चल रही है। उत्तरी दिल्ली नगर निगम की मेयर प्रीति अग्रवाल के खिलाफ चौंकाने वाले तथ्य सामने आए हैं। निगम के एक बड़े अधिकारी ने अपने पत्र के जरिए निगम आयुक्त को प्रीति अग्रवाल की शिकायत की थी। उसमें साफ तौर पर लिखा गया था कि जब एक टेंडर प्रक्रिया में बोली लगाने वाली कम्पनियों की छंटनी चल रही थी तो मेयर जबरदस्ती उस कमरे में दाखिल हो जाती हैं। उस दौरान मेयर और उस अफसर के बीच क्या बातचीत हुई, यह सब पत्र में लिखा है। आप के मुताबिक,

मेयर ने पूछा, क्या हो रहा है यहां तो अफसर बोला, हम यहां पर बिड कर रहे हैं। उसके बाद मेयर बोली, ये बॉक्स यहां क्यों रखे गए हैं। अफसर ने कहा, इसमें सभी टेंडर के आवेदन हैं। इसके बाद मेयर बोली, इसमें कितना वक्त लगेगा तो संबंधित अधिकारी ने जवाब दिया कि तकरीबन 3 से 4 घंटे का वक्त लगेगा। मेयर ने उस अफसर से कहा, सारे कागजात मेरे कमरे में लेकर आइए। इस बाबत अधिकारी बोले, मैं ऐसा नहीं कर सकता। साथ ही अफसर ने कहा, ये कागजात मैं निगम आयुक्त को ही दूंगा। मेयर ने एक बार फिर कहा, ये सभी कागजात मेरे कमरे में लेकर आइए। अफसर ने एक बार फिर ऐसा करने से मना कर दिया।

आप नेता ने बताया कि उस अफसर ने अपने पत्र में लिखा है कि मेयर द्वारा ऐसा करना पूरी तरह से गलत, अवैध व अनियमित है। यह किसी भी सूरत में न्यासंगत नहीं है। इस आधार पर आप ने उत्तरी नगर निगम की मेयर प्रीति अग्रवाल को बर्खास्त करने की मांग की है। आप नेता के अनुसार, उक्त अधिकारी ने पहले इन्हीं मेयर पर शिक्षा विभाग में रहते हुए तबादला पोस्टिंग को लेकर दबाव बनाने का आरोप लगाया है। इतना ही नहीं, मेयर पर यह आरोप भी लगा है कि उन्होंने अपने घर पर सरकारी पैसे से पांच लाख रुपए का एक डिनर आयोजित करने के लिए उक्त अधिकारी पर दबाव डाला था। मेयर पर उस अफसर को अपने कमरे में बुलाकर बेईज्जत करने का भी आरोप है। आप ने मांग की है कि इस मामले में मेयर के खिलाफ एफआईआर दर्ज होनी चाहिए, क्योंकि उन्होंने एक कंपनी को फायदा पहुंचाने के लिए यह सब किया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Mcd officer letter to commissionar