अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

'सिंघम' देख युवक ने बनाया था बच्चे की किडनैपिंग का प्लान, फिरौती में मांगे 20 लाख

5 years old boy kidnnaped by men

बॉलीवुड मूवी सिंघम और तेज देखकर एक स्कॉलर किडनैपर बन गया। अपना कर्जा उतारने के लिए बीटेक-एमटेक करने वाले इस युवक ने दिल्ली के यमुनापार इलाके में स्थित भजनपुरा से सोमवार दोपहर पांच साल के एक मासूम बच्चे को अगवा कर उसके परिजनों से 20 लाख रुपये की फिरौती मांगी।

हालांकि पुलिस ने 24 घंटे के भीतर ही गौतमबुद्ध नगर के दादरी इलाके से बच्चे को सकुशल मुक्त कराया और आरोपी युवक को गिरफ्तार कर लिया।गिरफ्तार आरोपी की पहचान दादारी स्थित मोहल्ला ब्रह्मपुरी निवासी 27 वर्षीय आसिफ सैफी के रूप में हुई है। पूछताछ के दौरान आरोपी ने बताया कि सरकारी नौकरी पाने के लिए उसने अपने किसी जानकार को कर्ज लेकर रकम मुहैया कराई थी।

कर्ज ली गई इस रकम को उतारने के लिए उसने उसे रुपयों की जरूरत थी। इस कारण उसने बच्चे को अगवा कर फिरौती की रकम वसूलने की योजना बनाई। जिले के डीसीपी डॉक्टर अजीत कुमार सिंघला ने बताया कि सुभाष मोहल्ला निवासी दिलशाद अहमद नामक एक शख्स ने भजनपुरा थाने में बेटे की गुमशुदगी दर्ज कराई। दिलशाद ने बताया कि सोमवार दोपहर करीब दो बजे उसका पांच वर्षीय बेटा मो. अजहर घर से बाहर निकला था औ गायब हो गया। पिता की शिकायत पर पुलिस ने इस संबंध में अपहरण का मामला दर्ज कर जांच आरंभ की।

जांच के दौरान पुलिस को घर के पास लगे सीसीटीवी कैमरे में एक युवक मासूम बच्चे को ले जाते हुए दिखाई दिया। पुलिस अभी जांच में जुटी ही थी कि इतने में मंगलवार सुबह करीब साढ़े आठ बजे दिलशाद के पास अपहरणकर्ता ने कॉल कर 20 लाख रुपये की मांग की। पुलिस ने कॉलर की लोकेशन चेक की तो वह दादरी की मिली। 
इसके बाद पुलिस की एक टीम को दादरी भेज दिया गया। वहां जांच के दौरान कॉलर की लोकेशन पर आसपास लगे सीसीटीवी फुटेज की जांच की तो वहां भी एक युवक बच्चे के साथ दिखाई दिया। फिर जैसे ही शाम चार बजे अनाज मंडी दादरी के पास से आरोपी ने दिलशाद के नंबर पर कॉल कर फिरौती की रकम मांगी, पुलिस ने कॉल ट्रेस कर उसे धर दबोचा और बच्चे को मुक्त कराया।

एमटेक आरोपी गलगोटिया में रह चुका है शिक्षक
आरोपी आसिफ सैफी ने बताया कि वह अपने तीन भाईयों के साथ दादरी में रहता है।

एमटेक करने के बाद वह गलगोटिया यूनिवर्सिटी में पढ़ाने लगा। लेकिन वहां पर उसकी सैलरी बेहद कम थी। ऐसे में वह अपने घर का खर्च व यूपीएससी की तैयारी करने में परेशानी महसूस कर रहा था। उसने यूपीएससी की तैयारी के मुखर्जी नगर इलाके में निश्चय कोचिंग सेंटर से यूपीएससी की कोचिंग भी ली थी। 
खुद भी ठगा जा चुका है आरोपी युवक 
आरोपी ने यह बताया कि दिल्ली आने के दौरान आरोपी को भजनपुरा के सुभाष मोहल्ला में एक शख्स मिला। उसने सरकारी नौकरी लगवाने के नाम पर उससे करीब पांच लाख रुपये ले लिये।

आसिफ ने लोगों से उधार लेकर रुपये दिए। लेकिन नौकरी भी लगी नहीं और उधार की रकम लौटाने का दबाव भी बढ़ने लगा। परेशान आरोपी ने फिर कर्ज चुकाने के लिए मासूम को अगवा करने की योजना बनाई और उसने वारदात को अंजाम दिया।

बच्चे को पाकर मासूम का परिवार प्रसन्न 
अपने इकलौते बेटे को पाकर दिलशाद अहमद बेहद खुश हैं। वह पुलिस अधिकारियों का धन्यवाद करते नहीं थक रहे हैं। दिलशाद मेडिकल स्टोर चलाते हैं, जबकि पिता की दूध की डेयरी है।

बेटे के अपहरण की खबर के बाद से मां कुलसुम ने खाना नहीं खाया था। दादा-दादी का रोते-रोते बुरा हाल है। लेकिन बच्चे की बरामदगी के बाद से परिवार में खुशी का माहौल है।

हमारी एक टीम ने मामला दर्ज करते ही अपहरणकर्ता की पहचान में जुट गई और सीसीटीवी फुटेज व तकनीकी जांच के आधार पर आरोपी की पहचान कर उसे धबोचा। बच्चे को सकुशल मुक्त कराने वाली टीम को पुरस्कृत किया जाएगा।
 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:man kidnapped 5 years old boy after seeing singham movie Ransom for 20 lakhs