ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News NCR नई दिल्लीसिंगापुर, हांगकांग में प्रतिबंधित मसाले निर्यात के एक प्रतिशत से भी कम

सिंगापुर, हांगकांग में प्रतिबंधित मसाले निर्यात के एक प्रतिशत से भी कम

अलग-अलग देशों में 0.73 फीसदी से लेकर 7 फीसदी तक एथिलीन ऑक्साइड के इस्तेमाल की

सिंगापुर, हांगकांग में प्रतिबंधित मसाले निर्यात के एक प्रतिशत से भी कम
हिन्दुस्तान टीम,नई दिल्लीWed, 15 May 2024 08:15 PM
ऐप पर पढ़ें

सिंगापुर, हांगकांग में प्रतिबंधित मसाले भारत के मसाला निर्यात के एक प्रतिशत से भी कम
अलग-अलग देशों में 0.73 फीसदी से लेकर 7 फीसदी तक एथिलीन ऑक्साइड के इस्तेमाल की इजाजत

भारतीय मसाला बोर्ड ने मसाला निर्यात की सुरक्षा और गुणवत्ता सुनिश्चित करने के प्रयास शुरू किए

नई दिल्ली, एजेंसी। हालिया मसाला विवाद के बाद सिंगापुर और हांगकांग ने एथिलीन ऑक्साइड (ईटीओ) अवशेषों की उपस्थिति के कारण अपने देशों में एमडीएच और एवरेस्ट मसालों की बिक्री पर प्रतिबंध लगा दिया। इसके बाद भारतीय मसाला बोर्ड ने इन क्षेत्रों में भारतीय मसाला निर्यात की सुरक्षा और गुणवत्ता सुनिश्चित करने के लिए कदम उठाए हैं। सरकारी सूत्रों ने बताया कि अलग-अलग देशों में 0.73 फीसदी से लेकर 7 फीसदी तक ईटीओ के इस्तेमाल की इजाजत है। साथ ही इन देशों में प्रतिबंधित मसाले भारत के कुल मसाला निर्यात के एक प्रतिशत से भी कम हैं।

सरकारी सूत्रों ने कहा कि विभिन्न देशों द्वारा ईटीओ के उपयोग के लिए एक मानक तैयार किया जाना चाहिए। मसालों की गुणवत्ता सुनिश्चित करने के लिए, अब मसाला बोर्ड ने 7 मई, 2024 से सिंगापुर और हांगकांग के सभी मसाला शिपमेंट के लिए ईटीओ अवशेषों का नमूना और परीक्षण करना अनिवार्य कर दिया है।

बोर्ड ने टेक्नो-वैज्ञानिक समिति की सिफारिशों को लागू किया है, जिसने मूल कारण विश्लेषण किया, प्रसंस्करण सुविधाओं का निरीक्षण किया और मान्यता प्राप्त प्रयोगशालाओं में परीक्षण के लिए नमूने एकत्र किए। भारतीय मसाला बोर्ड ने 130 से अधिक निर्यातकों और संघों जैसे अखिल भारतीय मसाला निर्यातक मंच और भारतीय मसाला एवं खाद्य पदार्थ निर्यातक संघ को शामिल करते हुए एक हितधारक परामर्श का भी आयोजन किया। बोर्ड ने सभी निर्यातकों को ईटीओ व्यवहार के दिशानिर्देश भी जारी किए हैं। मसाला बोर्ड ने भारत से निर्यात होने वाले मसालों में ईटीओ संदूषण को रोकने के लिए ये कदम उठाया है।

अप्रैल में, हांगकांग की खाद्य सुरक्षा निगरानी संस्था ने भारतीय ब्रांडों एमडीएच और एवरेस्ट के चार मसाला उत्पादों पर प्रतिबंध लगा दिया, क्योंकि उनमें कैंसर पैदा करने वाले रसायन पाए गए थे। हांगकांग विशेष प्रशासनिक क्षेत्र सरकार के खाद्य सुरक्षा केंद्र ने 5 अप्रैल को घोषणा की कि नियमित निगरानी कार्यक्रमों ने एमडीएच समूह, सांभर मसाला पाउडर और करी पाउडर के तीन मसालों में एथिलीन ऑक्साइड की उपस्थिति का खुलासा किया है।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।