अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

टूटा भरोसा: इन 5 वजहों से 'आप' का कुमार पर कम हुआ 'विश्वास'

 kumar vishwas

आम आदमी पार्टी में घमासान थमने का नाम नहीं ले रहे है। इस बार कुमार विश्वास के खिलाफ पार्टी दफ्तर के बाहर कई पोस्टर लगाए गए हैं, जिनमें कुमार विश्वास को कवि नहीं बल्कि गद्दार बताया गया है। इस पोस्टर में धोखेबाजों को बाहर करने की मांग की गई है। इतना ही नहीं कुमार विश्वास का सच बताने वाले दिलीप पांडे का आभार व्यक्त किया गया है। हालांकि इस पोस्टर को किसने जारी किया है इसकी कोई जानकारी नहीं है। यह पहली बार नहीं है कुमार विश्वास के साथ पहले भी कई बार विवाद जुड़ चुके हैं। कुमार विश्वास के साथ हाल ही में जुड़े हैं ये पांच विवाद....


पहला विवाद: दिल्ली चुनाव में जमानत जब्त होने पर साधा पार्टी पर निशाना

दिल्ली के राजौरी गार्डन उपचुनाव में आम आदमी पार्टी की जमानत जब्त होने पर कुमार विश्वास ने सीधे-सीधे अरविंद केजरीवाल से तो कुछ नहीं कहा है, लेकिन उनका संदेश साफ था। उन्होंने अब्बास ताबिश की शायरी का सहारा लिया और कहा, 'पानी आँख में भर कर लाया जा सकता है, अब भी जलता शहर बचाया जा सकता है।' 


दूसरा विवाद: बीजेपी-कांग्रेस को जीत पर दी बधाई

कुमार ने पंजाब और गोवा के विधानसभा चुनावों में जीत के लिए बीजेपी और कांग्रेस को बधाई दी। साथ ही उन्होंने आप के वालंटियर का भी शुक्रिया अदा किया। इसके बाद उनका पार्टी के कई नेताओं ने विरोध किया। कुमार ने अपने पहले ट्वीट में एक कविता पोस्ट कर वालंटियर का मनोबल बढ़ाने की कोशिश की है और अगले ट्वीट में लिखा, 'आम आदमी पार्टी के वालंटियर्स और उम्मीदवारों अच्छे से चुनाव लड़ने के लिए धन्यवाद। अच्छी जीत के लिए बीजेपी और कांग्रेस को बधाई।हालांकि इससे पहले आप प्रवक्ता आशुतोष ने कहा कि वे और उनकी पार्टी इस परिणाम से अचंभित हैं। पार्टी को बिल्कुल भी ऐसे परिणाम की उम्मीद नहीं थी।

तीसरा विवाद: कुमार ने कविता के जरिए दिलीप पांडेय को दिया जवाब

आप नेता दिलीप पांडेय के ट्वीट पर कुमार विश्वास ने पूछा था कि आप बीजेपी के प्रति सॉफ्ट क्यों हो भैया। इस पर कुमार विश्वास ने कवि धर्मवीर भारती की कविता शेयर की और आप नेताओं पर निशाना साधा है। ये कविता थी, 'मैं रथ का टूटा हुआ पहिया हूं लेकिन मुझे फेंको मत! क्या जाने कब इस दुरूह चक्रव्यूह में अक्षौहिणी सेनाओं को चुनौती देता हुआ कोई दुस्साहसी अभिमन्यु आकर घिर जाए, अपने पक्ष को असत्य जानते हुए भी बड़े-बड़े महारथी अकेली निहत्थी आवाज़ को अपने ब्रह्मास्त्रों से कुचल देना चाहें, तब मैं रथ का टूटा हुआ पहिया, उसके हाथों में ब्रह्मास्त्रों से लोहा ले सकता हूं! मैं रथ का टूटा पहिया हूं लेकिन मुझे फेंको मत, इतिहासों की सामूहिक गति सहसा झूठी पड़ जाने पर क्या जाने सच्चाई टूटे हुए पहियों का आश्रय ले!'

चौथा विवाद: दिलीप पांडेय ने पूछा, वसुंधरा के खिलाफ नहीं बोलेंगे

AAP नेता दिलीप पांडेय ने कुमार विश्वास के खिलाफ ट्विटर के जरिये हमला बोलते हुए पूछा था कि भैया, आप कांग्रेसियों को खूब गाली देते हो, पर कहते हो कि राजस्थान में वसुंधरा के खिलाफ नहीं बोलेंगे? ऐसा क्यों? दरअसल, कुमार विश्वास ने राजस्थान के वॉलंटियर्स के साथ मीटिंग की तो उससे संदेश गया कि वह दिल्ली के आप नेताओं पर तंज कस रहे हैं। इतना ही नहीं यह भी कहा गया कि किसी दिल्ली के नेता की तस्वीर राजस्थान में पोस्टरों में इस्तेमाल नहीं होगी। हालांकि बाद में स्पष्ट किया कि केजरीवाल पार्टी के नेता हैं, उनकी तस्वीर इस्तेमाल होती रहेगी। 

पांचवां विवाद: अमानतुल्लाह ने कुमार को बताया बीजेपी का एजेंट

आम आदमी पार्टी के विधायक अमानतुल्लाह खान ने कुमार विश्वास को बीजेपी का एजेंट बताकर पार्टी तोड़ने की साजिश करने का आरोप लगाया था। इस पर विश्वास ने अपनी नाखुशी का सार्वजनिक रूप से इजहार कर किया था। खान के बयान पर विश्वास ने कहा कि खान तो सिर्फ मोहरा हैं, जिनकी आड़ में दूसरे लोग उन्हें निशाना बना रहे हैं। विश्वास ने ये भी कहा कि वो जल्द ही एक बड़ा फैसला लेंगे। हालांकि बाद में अरविंद केजरीवाल और मनीष सिसौदिया ने उन्हें मना लिया था।

अमानतुल्ला का आरोप था कि कुमार पार्टी तोड़ने की साजिश रच रहे हैं और उन्होंने कुछ विधायकों से 30-30 करोड़ रुपए के बदले बीजेपी में शामिल होने के लिए कहा। खान ने व्हाट्सएप पर एक संदेश जारी किया, जिसमें उन्होंने कहा है कि विश्वास ने कुछ आप विधायकों को भारतीय जनता पार्टी की तरफ से इस पेशकश के साथ अपने घर बुलाया।

पोस्टर वारःकुमार विश्वास के खिलाफ लगे पोस्टर,पार्टी से निकालने की मांग

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: kumar vishwas credibility goes down in aam aadmi party due to these five reasons