DA Image
28 नवंबर, 2020|1:15|IST

अगली स्टोरी

हत्या का बदला लेने के लिए 27 साल से रखा था कट्टा

default image

खुलासा - राष्ट्रीय स्तर के पहलवान ने कट‌्टे से हत्यारे पर किया फायर, गिरफ्तार - हमले में घायल है इसी महीने पैरोल पर जेल से बाहर आया हत्यारा नई दिल्ली। वरिष्ठ संवाददाता एक परिवार ने अपने एक सदस्य की हत्या का बदला लेने के लिए 27 साल से कट्टा रखा हुआ था। राष्ट्रीय स्तर पर पहलवानी कर चुके शख्स ने मौका मिलने पर कट्टे से फायर कर दिया लेकिन गोली हत्यारे की बांह को पार कर उसके दोस्त के पेट में घुस गई और वह घायल हो गया। पुलिस ने हमलावर पहलवान को हथियार समेत गिरफ्तार कर लिया है। जानकारी के अनुसार, 1993 में सदर बाजार इलाके में पवन ने राकेश को चापड़ से सरेबाजार काट डाला था। इसमें पवन को उम्र कैद की सजा मिली थी लेकिन राकेश का पिता रामकुमार अपने तरीके से हत्या का बदला लेना चाहता था। रामकुमार ने अपने बेटे की हत्या बदला लेने के लिए 1993 में ही कट्टा खरीदा। पवन के जेल में होने के कारण उसे मौका नहीं मिल पाया और बीते साल उसकी मौत हो गई। इसके बाद राम कुमार के पोते कुणाल ने इस कट्टे को अपने पास रख लिया और मौके की ताक में था। दोस्तों के साथ बैठा था बदमाश हत्यारा पवन इस साल अगस्त में पैरोल पर जेल से छूटा था। वह रविवार को गली चर्च वाली में अपने दो दोस्तों के साथ बैठा हुआ था। तभी कुणाल अपने साथी के साथ आया और कट्टे से उस पर गोली चला दी लेकिन गोली पवन की बांह को पार करते हुए उसके दोस्त लक्ष्मण के पेट में घुस गई। पीड़ित की शिकायत पर हत्या के प्रयास का मुकदमा दर्ज कर कर लिया। साथ ही एसएचओ अशोक कुमार के नेतृत्व एसआई जितेंद्र और एसआई विजय की टीम ने वारदात के छह घंटे के भीतर आरोपी कुणाल और उसके साथी नवीन को सोमवार को गिरफ्तार कर लिया। ----------- 2017 में जीता था स्वर्ण पदक पुलिस की पूछताछ में दुश्मनी के विषय में जानकारी हुई। पुलिस ने आरोपी के पास से कट्टा भी बरामद कर लिया है। कुणाल पहले पहलवानी करता था और 2017 में जूनियर वर्ग में उसने स्वर्ण पदक भी जीता था। लेकिन बुरी संगत में पड़कर पहलवानी छोड़ दी।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Katta was kept for 27 years to avenge the murder