DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

JNUSU चुनाव: मतपेटी छीनने के प्रयास पर 15 घंटे मतगणना ठप

JNUSU Elections

जेएनयू में शांतिपूर्ण मतगणना के बीच शनिवार तड़के नया मोड़ आ गया। मतगणना केंद्र में घुसकर तोड़फोड़, मारपीट और मतपेटी छीनने की कोशिश का आरोप है। इसे लेकर 15 घंटे तक वोटों की गिनती रुकी रही। शिकायत निवारण समित की बैठक के बाद शनिवार शाम करीब साढ़े छह बजे दोबारा मतगणना शुरू हो सकी। जेएनयू में घटना के विरोध में पूरे दिन तनाव का माहौल रहा। परिसर में सीआरपीएफ की तैनाती की गई है।
चुनाव समिति ने मीडिया को दी गई सूचना में बताया कि शुक्रवार रात दस बजे मतगणना प्रक्रिया शुरू हुई थी। इसे सुबह रोक दिया गया। उन्होंने कहा कि एक संगठन के लोग सुबह करीब साढ़े तीन बजे मतगणना स्थल पहुंचे। उन्होंने मतपेटी छीनने की कोशिश की। समिति का आरोप है कि संगठन के अध्यक्ष और सह सचिव पद के उम्मीदवारों के नेतृत्व में चुनाव समिति की महिला सदस्यों के साथ भी मारपीट की गई। 

वाम संगठन ने एबीवीपी पर आरोप लगाया 
वाम संगठनों ने मीडिया को बताया कि एबीवीपी के अध्यक्ष पद और संयुक्त सचिव पद के प्रत्याशी ललित पांडेय और वेंकट के नेतृत्व में इस घटना को अंजाम दिया है। उनका आरोप है कि काउंसलर पद पर साइंसेज को छोड़कर अन्य तीन में हार की खबर सुनने के बाद एबीवीपी संगठन के लोग बौखला गए। उन्होंने चुनाव केंद्र के शीशे तोड़े। वहीं, एबीवीपी ने इस पूरे घटनाक्रम के पीछे चुनाव समिति की कार्यप्रणाली को दोषी बताया है। एबीवीपी ने कहा कि उन्हें संदेह है कि जेएनयूएसयू चुनाव 2018-19 के लिए बनाई गई चुनाव समिति में शामिल लोग वामपंथी संगठनों के पक्ष में कार्य कर रहे हैं। घटनाक्रम के विरोध में जेएनयू परिसर में पूरे दिन घमासान तनाव की स्थिति बनी रही। सभी वाम संगठनों के अलावा एनएसयूआई व अन्य छात्र संगठनों ने एबीवीपी के खिलाफ प्रदर्शन किया।

प्रतिबंधित हथियार मिलना आर्म्स ऐक्ट का आधार नहीं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:JNUSU elections counting of votes halted for 15 hours on attempts to snatch ballot boxes