DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आईआईटी में छात्रों को तनाव से बचाने के लिए अभियान

depression

भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी), दिल्ली नए छात्रों को माहौल के हिसाब से ढालने के लिए अभियान चला रहा है। यह भी प्रयास किया जा रहा है कि यहां आने वाले छात्रों को पढ़ाई और काम का तनाव न हो। संस्थान के छात्र कल्याण विभाग ने छात्रों के लिए ऑनलाइन काउंसिलिंग की व्यवस्था शुरू की है। इससे उनकी पहचान भी उजागर नहीं होगी। इसके अलावा छात्र सीधे भी विभाग में जाकर समस्या बता सकते हैं। आईआईटी दल्लिी के डायरेक्टर वी रामगोपाल राव ने बताया कि संस्थान के मानविकी और सामाजिक वज्ञिान विभाग ने पिछले महीने एक रिपोर्ट सौंपी है। इस रिपोर्ट में उन बातों की पड़ताल की गई है जिसकी वजह से छात्र अकादमिक कार्यों में पिछड़कर तनाव में आ जाते हैं। इससे बचने के सुझाव विभाग ने अपनी रिपोर्ट में सौंपे हैं। 

हिंदी मीडियम के छात्रों पर विशेष ध्यान 
 मानविकी और सामाजिक वज्ञिान विभाग की रिपोर्ट में दिए गए सुझावों में हिंदी मीडियम से पढ़कर आने वाले छात्रों पर विशेष ध्यान देने की बात कही गई है। आईआईटी दल्लिी की हिंदी सेल को अभी तक सर्फि अकादमिक कागजों को अनुवाद के लिए ही इस्तेमाल किया जाता था। अब हिंदी सेल के जरिए ऐसे छात्रों की मदद की जाएगी। आईआईटी, दल्लिी के डायरेक्टर का कहना है कि शक्षिकों को नए छात्रों से निजी स्तर पर बातचीत करने को कहा गया है। 

छात्रावास में दो घंटे शक्षिक रहेंगे  
छात्रावासों में छात्रों की पढ़ाई में मदद के लिए रात 8 से 10 बजे तक कुछ शक्षिक उपलब्ध कराने का नर्णिय लिया गया है। शक्षिक छात्रों की पढ़ाई या परियोजना कार्यों में मदद के अलावा निजी तौर पर भी संवाद स्थापित करेंगे। परीक्षा के बाद भी हर छात्रावास में तीन काउंसलरों को भेजा जाएगा। छात्र कल्याण बोर्ड के एक सदस्य ने बताया कि पहले नया सत्र शुरू होने के कुछ सप्ताह बाद ही काउंसिलिंग शुरू हो जाती थी। इस बार से माइनर परीक्षाओं के बाद उन्हें काउंसिलिंग दी जाएगी, ताकि वे समस्याओं को पहचानकर बेहतर ढंग से काउंसलरों से बात कर सकें। हर घंटे एक छात्र आत्महत्या करता है नेशनल क्राइम रिकॉर्ड के आंकड़ों के मुताबिक भारत में हर घंटे एक छात्र आत्महत्या करता है। इंजीनियरिंग कॉलेजों में भी कुछ समय में आत्महत्याओं की घटनाओं में बढ़ोतरी हुई है। इसी वर्ष मई में आईआईटी, दल्लिी की पीएचडी की छात्रा ने आत्महत्या कर ली थी। एक अन्य रिपोर्ट के मुताबिक छात्रों की आत्महत्या की सबसे बड़ी वजह अकादमिक कारणों से होने वाला तनाव है। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: Indian Institute of Technology, IIT, Delhi, New Student, Tension, Campaign, Department, Preparation, Initiative, Online Counseling, Report