अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

प्रशासनिक खंड तक अधिकारियों के पहुंच को नहीं किया बाधित- जेएनयूएसयू

जेएनयू छात्र संघ (जेएनयूएसयू) ने बुधवार को दिल्ली हाईकोर्ट में कहा कि उसने प्रशानिक खंड में कुलपति या अन्य अधिकारियों की आवाजाही को बाधित नहीं किया है। जेएनयूएसयू ने पक्ष रखते हुए कहा कि प्रदर्शन के दौरान छात्रों ने हाईकोर्ट के आदेश की अनदेखी भी नहीं की है। जस्टिस वी. कामेश्वर राव के समक्ष छात्र संघ ने जेएनयू के उन आरोपों को बेबुनियाद बताया, जिसमें छात्रों पर कोर्ट के आदेश की अनदेखी का आरोप लगाया गया है।

छात्र संघ ने हाईकोर्ट से कहा कि प्रशासनिक खंड के 100 मीटर के दायरे में प्रदर्शन नहीं करने के अगस्त, 2017 के आदेश को तकनीकी तौर पर नहीं देखा जाना चाहिए। उस आदेश की मूल भावना प्रशासनिक खंड तक अधिकारियों की पहुंच में आने वाली बाधा को टालना था। विश्वविद्यालय ने छात्रों पर हाईकोर्ट के आदेश की अवहेलना कर प्रशासनिक खंड के 100 मीटर के दायरे में प्रदर्शन करने का आरोप लगाते हुए जेएनयूएसयू पदाधिकारियों के खिलाफ अवमानना कार्रवाई की मांग की है। इस मामले पर गुरुवार को भी सुनवाई होगी। छात्रों ने 15 फरवरी को कथित तौर पर प्रशासनिक खंड को घेर लिया था।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:high court