अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

वकीलों पर हमला: त्वरित कार्रवाई नहीं करने पर पुलिस को फटकार

राजधानी में दो वरिष्ठ अधिवक्ताओं पर हमला और एक अधिवक्ता की कार जलाने की घटना से जुड़े मामले में फॉरेंसिंक नमूने लैब में नहीं भेजे जाने पर हाईकोर्ट ने दिल्ली पुलिस को कह़ी फटकार लगाई। हाईकोर्ट ने मंगलवार को कहा कि वकीलों पर हमला आपात स्थिति जैसा है, इस तरह के मामले में भी त्वरित कार्रवाई नहीं किया जाना चिंता का विषय है।

कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश गीता मित्तल और न्यायमूर्ति सी. हरि. शंकर की पीठ ने दिल्ली पुलिस से कहा कि आप इस तरह के मामले में समुचित कदम नहीं उठा पा रहे हैं, मान लीजिए यदि आतंकवदी हमला होता है कि आप लोग (पुलिस) क्या करेंगे, आप मामले की जाचं कैसे करेंगे। पीठ ने दिल्ली पुलिस आयुक्त को इस मामले में जांच के लिए घटना स्थल से उठाए गए फॉरेंसिक नमूने को प्रयोशाला भेजने में देरी करने वाले पुलिस अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई करने को कहा है। हाईकोर्ट ने इस मामले में लापरवाही बरतने वाले पुलिस अधिकारी और वकीलों पर हमला करने वालों के खिलाफ क्या कार्रवाई की गई या की जा रही है, इस बारे में 21 फरवरी तक प्रगति रिपोर्ट पेश करने को कहा है। उसी दिन मामले की सुनवाई होगी। हाईकोर्ट ने यह आदेश तब दिया जब हाईकोर्ट बार एसोसिएशन ने कहा कि आदेश के बावजूद मामले में उचित कार्रवाई नहीं हो रही है, इससे अंदाज लगाया जा सकता है कि पुलिस की कार्यप्रणाली कैसी है। इस पर पीठ ने कहा कि यदि वकीलों पर हमला के मामले में पुलिस इस तरह का रवैया अपना रही है तो आम नागरिकों के मामले में क्या करती होगी, इसका सहज अंदाज लगाया जा सकता है। इससे पहले दिल्ली पुलिस की ओर से अधिवक्ता राहुल मेहरा ने कहा कि जांच के लिए फॉरेंसिक नमूने समय स्पेशल सेल के पास भेज दिया गयाथा। दूसरी तरफ फॉरेंसिक प्रयोगशाला अधिकारियों ने पीठ को बताया कि उन्हें सीसीटीवी जांच के लिए हार्डडिस्क की जरूरत थी जो उन्हें 15 फरवरी को दी गई। इस पर हैरानी जताते हुए पीठ ने कहा कि क्या आपके पास अपनी हार्डडिस्क भी नहीं है। हाईकोर्ट ने यह भी कहा कि घटना डेढ़ माह पूर्व की है, क्या नमूने अब भी सुरक्षित होंगे। हाईकोर्ट ने यह आदेश दिल्ली हाई कोर्ट बार एसोसिएशन (डीएचसीबीए) की याचिका पर दिया है। याचिका में वकीलों पर हमले व कार जलाने की घटना की अदालत की निगरानी स्पेशल सेल के विशेष जांच दल से जांच कराने की मांग की गई है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:high court