class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बिजली चोरी रोकने के लिए पुलिस को समुचित कदम उठाने की जरूरत-हाईकोर्ट

हाईकोर्ट ने गुरुवार को कहा है कि भले ही दिल्ली पुलिस को बिजली चोरी रोकने के मामलों में भले ही कार्रवाई कर रहे हों, लेकिन उसे और कदम उठाने की जरूरत है। हाईकोर्ट ने दिल्ली विद्युत नियामक आयोग (डीआरसी), बिजली वितरण कंपनियां और पुलिस से कहा कि ‘बिजली चोरी मामले में शायद आपको और अधिक प्राथमिकी दर्ज करने और कार्रवाई करने की जरूरत है।

कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश गीता मित्तल व न्यायमूर्ति सी. हरि. शंकर की पीठ ने यह टिप्पणी तब की, जब पुलिस की ओर से अधिवक्ता अधिवक्ता गौतम नारायण ने कहा कि बिजली चोरी की शिकायतों पर मुकदमा दर्ज करने और जांच-पड़ताल के बाद आरोपियों को गिरफ्तार भी कर रही है। पुलिस की ओर से रिपोर्ट पेश करते हुए अधिवक्ता नारायण ने कहा कि इस साल 30 सितंबर तक बिजली की कंपनियों की ओर से बिजली चोरी की कुल 3,853 शिकायतें मिलीं, जिसके आधार पर 2,897 मामले दर्ज किये गये। उन्होंने कहा कि जांच के बाद पुलिस ने कुल 461 लोगों को गिरफ्तार भी किया। हालांकि पुलिस ने अपनी रिपोर्ट में कहा कि पुलिसकर्मी बिजली चोरी के मामलों से निपटने के प्रति संवेदनशील हैं। हाईकोर्ट रमन सूरी की ओर से दाखिल याचिका पर सुनवाई कर रही है। याचिका में आरोप है कि बिजली कंपनियां दरें बढ़ाकर बिजली चोरी का अपना बोझ वास्तविक उपभोक्ताओं पर डाल दिया है। हालांकि बीएसईएस राजधानी ने इन आरोपों को बेबुनियाद बताया है। मामले की अगली सुनवाई 24 जनवरी को होगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:high court
फॉलो मी व्हीकल करेंगे विमानों के परिचालन में मददमानहानि मामले में केजरीवाल को पेशी से मिली छूट