DA Image
Sunday, December 5, 2021
हमें फॉलो करें :

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ NCR नई दिल्लीविदेश ::: इक्वाडोर की जेल में गिरोहों के बीच खूनी संघर्ष, 68 कैदियों की मौत

विदेश ::: इक्वाडोर की जेल में गिरोहों के बीच खूनी संघर्ष, 68 कैदियों की मौत

हिन्दुस्तान टीम,नई दिल्लीNewswrap
Sun, 14 Nov 2021 05:50 PM
विदेश ::: इक्वाडोर की जेल में गिरोहों के बीच खूनी संघर्ष, 68 कैदियों की मौत

क्विटो। एजेंसी

इक्वाडोर की सबसे बड़ी जेल 'लिटोरल पेनिटेंशरी' के अंदर शनिवार को प्रतिद्वंद्वी गिरोहों के बीच लंबे समय तक चली गोलीबारी में 68 कैदी मारे गए और 25 लोग घायल हो गए। अधिकारियों ने बताया कि घटना के काफी देर बाद तक स्थिति अनियंत्रित रही।

अधिकारियों ने बताया कि जेल के अंदर मौजूद अंतरराष्ट्रीय मादक पदार्थ गिरोह से जुड़े प्रतिद्वंद्वी गुटों के बीच लड़ाई का यह ताजा मामला है। घटना तटीय शहर गुआयाकिल में जेल में सुबह होने से पहले हुई। सोशल मीडिया पर वायरल हुए वीडियो में कुछ शव झुलसे हुए है और कुछ जेल के अंदर जमीन पर पड़े दिख रहे हैं। गुआस प्रांत के गवर्नर पाब्लो अरोसेमेना ने कहा कि शुरुआती लड़ाई करीब आठ घंटे तक चली। कैदियों ने पैवेलियन दो में जाने के लिए दीवार को डायनामाइट से उड़ाने का प्रयास किया और आगजनी की। अरोसेमेना ने कहा, हम मादक पदार्थों की तस्करी के खिलाफ लड़ रहे हैं। यह बहुत मुश्किल है।

---

जेल के अंदर 700 पुलिस अधिकारी

राष्ट्रपति के प्रवक्ता कार्लोस जिजोन ने बताया, हमें लिटोरल पेनिटेंशरी में नई झड़पों की सूचना मिली है। हॉल 12 के कैदियों ने हॉल सात के उन लोगों पर हमला किया, जो कब्जा करने का प्रयास कर रहे थे। उन्होंने कहा कि लगभग 700 पुलिस अधिकारी जेल के अंदर एक दल के साथ स्थिति को नियंत्रित करने की कोशिश कर रहे हैं। उन्होंने यह स्पष्ट नहीं किया कि क्या अधिकारियों ने परिसर पर नियंत्रण हासिल कर लिया है या घटना में क्या कोई और हताहत हुआ है।

---

कैदी बंदूकें और विस्फोटकों से लैस थे

पुलिस कमांडर जनरल तान्या वरेला ने कहा कि ड्रोन से पता चला कि तीन पैवेलियन में कैदी बंदूकें और विस्फोटकों से लैस थे। अधिकारियों ने बताया कि कैदियों को आपूर्ति में लगे वाहनों के माध्यम से हथियारों और गोला बारूद की तस्करी और कभी-कभी यह ड्रोन के द्वारा भी किया जाता है। राष्ट्रपति गुइलेर्मो लासो द्वारा अक्तूबर में घोषित राष्ट्रीय आपातकाल के बीच जेल में हिंसा की घटना हुई है। राष्ट्रीय आपातकाल सुरक्षा बलों को मादक पदार्थों की तस्करी और अन्य अपराधों से लड़ने का अधिकार देती है। इससे दो महीने पहले सितंबर में लिटोरल जेल में गिरोहों के बीच रक्तपात हुआ था, जिसमें 119 लोग मारे गए थे। जेल में 8000 से अधिक कैदी हैं।

सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

संबंधित खबरें