DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   NCR  ›  नई दिल्ली  ›  'बाबा का ढाबा' के मालिक कांता प्रसाद को फूड ब्लॉगर ने दी माफी, बोले- ऑल इज वेल
नई दिल्ली

'बाबा का ढाबा' के मालिक कांता प्रसाद को फूड ब्लॉगर ने दी माफी, बोले- ऑल इज वेल

लाइव हिन्दुस्तान टीम,नई दिल्ली।Published By: Himanshu Jha
Mon, 14 Jun 2021 10:56 PM
'बाबा का ढाबा' के मालिक कांता प्रसाद को फूड ब्लॉगर ने दी माफी, बोले- ऑल इज वेल

"बाबा का ढाबा" कहानी जिसने पिछले साल सामने आने के बाद कई लोगों का ध्यान खींचा है, आखिरकार आज एक सकारात्मक मोड़ पर आया। "बाबा का ढाबा" को रातोंरात हिट बनाने वाले फ़ूड ब्लॉगर ने बुजुर्ग दंपत्ति के साथ एक ख़ुशनुमा तस्वीर साझा की है। आपको बता दें कि यह वही ब्लॉगर हैं, जिसपर ढाबे के मालिक ने लोगों द्वारा दान किए गए पैसे को ठगने का आरोप लगाया था। गौरव वासन ने ट्वीट किया, "ऑल इज वेल जिसका अंत अच्छा होता है।" 

यह ढाबे के मालिक कांता प्रसाद द्वारा माफी मांगने के बाद आया है। एक अन्य फ़ूड ब्लॉगर द्वारा साझा किए गए वीडियो में, कांता प्रसाद, हाथ जोड़कर, यह कहते हुए सुने जा सकते हैं, "गौरव वासन चोर नहीं थे। हमने उन्हें कभी चोर नहीं कहा"।

All is well that ends well. Galti karne se bada, galti maaf karne wala hota he (Mere Maa Baap ne hamesha yehi seekh di he ) #BABAKADHABApic.twitter.com/u6404OBlnn

— Gaurav Wasan (@gauravwasan08) June 14, 2021

एक साल पहले, दक्षिणी दिल्ली में भोजनालय के बाहर सैकड़ों लोगों की कतार लगी थी, जिसमें 'बाबा का ढाबा' के मालिक ने महामारी के कारण व्यापार के नुकसान के बारे में आंसू बहाते हुए वीडियो वायरल किया था। इसके बाद ढाबे मालिक को देश भर से उदार दान भी मिला।

हालांकि, कांता प्रसाद द्वारा ब्लॉगर पर वित्तीय हेराफेरी का आरोप लगाने के बाद एक बड़ा विवाद खड़ा हो गया। सोशल मीडिया इन्फ्लुएंसर ने आरोपों से इनकार किया और अपने बैंक स्टेटमेंट से अपना बचाव किया। वासन ने हिंदी में अपने नए ट्वीट में कहा, "जो व्यक्ति क्षमा करता है, वह गलती करने वाले से बड़ा होता है- यही मेरे माता-पिता ने मुझे सिखाया है।"

80 वर्षीय कांता प्रसादन ने मालवीय नगर के उसी इलाके में एक रेस्तरां शुरू किया, जहां उन्होंने 30 साल तक अपना ढाबा चलाया। लेकिन जब उनका नया बिजनेस नहीं चला तो वह अब अपने फूड स्टॉल पर वापस आ गए हैं।

समाचार एजेंसी एएनआई ने उनके हवाले से कहा, "एक लाख के निवेश पर हमने केवल 35,000 रुपए कमाए, इसलिए हमने इसे बंद कर दिया। मैं अपने पुराने भोजनालय को चलाकर खुश हूं क्योंकि यहां ग्राहकों की संख्या अच्छी है।" उन्होंने यह भी कहा कि वह अब मरते दम तक अपना ढाबा चलाएंगे।

संबंधित खबरें