DA Image
हिंदी न्यूज़ › NCR › नई दिल्ली › दिल्ली में निष्पक्ष और भयमुक्त मतदान के लिए चुनाव आयोग पूरी तरह तैयार
नई दिल्ली

दिल्ली में निष्पक्ष और भयमुक्त मतदान के लिए चुनाव आयोग पूरी तरह तैयार

नई दिल्ली | हिन्दुस्तान टीम Published By: Praveen
Wed, 05 Feb 2020 05:32 PM
दिल्ली में निष्पक्ष और भयमुक्त मतदान के लिए चुनाव आयोग पूरी तरह तैयार

राजधानी दिल्ली में चुनाव के लिए नामांकन का दौर पूरा हो चुका है। चुनाव लड़ने वाले उम्मीदवारों की सूची तैयार हो चुकी है। विभिन्न राजनीतिक दलों और प्रत्याशियों ने जन संपर्क शुरू कर दिया है। चुनाव आयोग ने भी चुनाव को सुचारू तरीके से संपन्न करवाने के लिए पूरी तैयारी कर ली है। पेश है चुनाव आयोग के साथ आयोजित ‘हिन्दुस्तान' के विशेष मतदाता जागरुकता अभियान के अंतर्गत प्रकाशित श्रंखला की 13वीं कड़ी।

दिल्ली के मुख्य चुनाव अधिकारी डॉ. रणबीर सिंह ने बताया कि भारत निर्वाचन आयोग के निर्देश पर दिल्ली विधानसभा चुनाव 2020 की सभी तैयारियां पूर्ण कर ली गई हैं। मतदाता सूची संशोधन, सूची में नए नाम जोड़ने तथा मतदाता जागरुकता जैसे कार्यों के साथ चुनावी मशीनरी की पहचान और तैनाती का कार्य पूरा किया जा चुका है।

वोटर कार्ड की गलती इस तरह सुधारें

राजधानी दिल्ली में होने वाले विधानसभा चुनाव के लिए मतदाता सूचियों को सटीक बनाने के लिए विशेष संक्षिप्त पुरीक्षण कार्यक्रम चलाया गया था जिसमें दिल्ली की सभी विधानसभाओं में बीएलओ ने बीएलओ एप का इस्तेमाल कर घर-घर जाकर मतदाताओं का सत्यापन किया। इसमें राजनीतिक दलों के कार्यकर्ताओं और आम जनता ने बढ़-चढ़कर भाग लिया। इस के तहत विशेष जागरुकता अभियान भी चलाया गया जिसमें दिल्ली सरकार के विभागों, केंद्र्र सरकार के विभागों, दिल्ली पुलिस, डीडीए, तीनों नगर निगमों, एनडीएमसी, दिल्ली केंटोनमेंट बोर्ड, फिक्की, एसोचैम, दिल्ली विश्वविद्यालय, एनजीओ और बैंकों के कर्मियों ने भाग लिया।

वोटर लिस्ट में नाम दर्ज कराना है जरूरी

स्वीप गतिविधियों के माध्यम से दिल्ली के मेट्रो स्टेशनों, कलस्टर बसों पर बैनर/ पोस्टर, एफएम चैनलों, सिनेमा हॉल में रेडियो जिंगल, अखबारों, सोशल मीडिया, ट्विटर, फेसबुक, यू-ट्यूब, इंस्टाग्राम पर विज्ञापन और बल्क एसएमएस, नुक्कड़ नाटक से लोगों को जागरूक किया गया।

चुनाव आयोग द्वारा स्वीप गतिविधियों के आयोजन से फायदा यह हुआ कि कम वोटर वाले बूथ और भीड़भाड़ वाले बूथों में सामंजस्य बैठाया गया। इस कवायद के चलते मतदान केंद्रों की संख्या 13816 से घटकर 13750 (+1 सहायक पोलिंग बूथ) पर आ गई और पोलिंग लोकेशन की संख्या 2700 से घटकर 2688 पर आ गई जिससे मतदान कर्मियों की तैनाती में भी कमी आएगी।

मतदाता सूचियों का ड्राफ्ट प्रकाशन 15 नवंबर 2019 को किया गया और अंतिम प्रकाशन 6 जनवरी को किया गया।

दिल्ली की विधानसभा सीटों के चुनाव के लिए एम3 ईवीएम और वीवीपैट (ईसीआईएल निर्मित) का प्रयोग होगा। सभी 13750 पोलिंग स्टेशनों पर दोहरी जांच के लिए वीवीपैट का प्रयोग होगा। कुल 34,222 बैलट यूनिट, 18765 कंट्रोल यूनिट तथा 20,385 वीवीपैट चुनावी प्रक्रिया को पूरा करने के कार्य में इस्तेमाल होंगे।

चुनाव सुचारू तरीके से आयोजित करने के लिए उठाए गए कदम

  • निष्पक्ष एवं भयमुक्त चुनाव के लिए 22 व्यय पर्यवेक्षकों, 28 सामान्य पर्यवेक्षकों और 11 पुलिस पर्यवेक्षकों की तैनाती की गई
  • 516 पोलिंग लोकेशन में 3841 गंभीर प्रकृति के बूथों की पहचान हुई।यहां सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम होंगे
  • 144 पॉकेट्स/इलाकों को काफी गंभीर प्रकृति का मानते हुए सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए जाएंगे
  • आचार संहिता को कड़ाई से लागू करने और गैरकानूनी नकदी, उपहारों का वितरण रोकने के लिए सभी विधानसभाओं में व्यय पर्यवेक्षकों की टीम की तैनाती की गई है
  • 70 आदर्श मतदान केंद्र (हर विधानसभा में एक), पूर्ण महिला मतदान केंद्र और हर जिले में पूर्णत: पीडब्ल्यूडी कर्मियों द्वारा संचालित मतदान केंद्र बनेगा
  • अनुपस्थित मतदाता श्रेणी में आने वाले 80 वर्ष से ज्यादा उम्र के वरिष्ठ नागरिक या पीडब्लयूडी वोटर या अनिवार्य सेवा वाले वोटरों को डाक मतदान सुविधा दी जाएगी
  • पहली बार दिल्ली में चुनाव आयोग चुनाव वाले दिन बूथ प्रबंधन के लिए बूथ एप की शुरुआत करेगा। यह दिल्ली में 11 विधानसभाओं (हरेक जिले में एक) तथा विधानसभा सं. 38 के कुछ मतदान बूथों पर कार्य करेगा
  • पोलिंग पार्टियां चुनाव से पहले की रात पोलिंग स्टेशन पर ही रुकेंगी
  • शिकायतों के निपटान के लिए जिला स्तर पर और मुख्य चुनाव अधिकारी के कार्यालय में एक 247 नियंत्रण कक्ष कार्यरत
  • सभी नाजुक प्रकृति के मतदान केंद्रों में वेबकास्टिंग कराई जाएगी
  • राजनीतिक बैठक, रैली, जुलूस निकालने वाले उम्मीदवारों और राजनीतिक दलों को विभिन्न प्रकार की अनुमतियां प्रदान करने के लिए सभी 11 जिलों में सिंगल विंडो सिस्टम की शुरुआत की गई
  • आमजन सीविजिल एप के जरिये आचार संहिता के उल्लंघन की शिकायत कर सकते हैं, 100 मिनट में इन पर कार्यवाही होगी
  • दिल्ली पुलिस के जवानों सहित सीआरपीएफ की 180 कंपनी, 19 हजार होमगार्ड तैनात किए जाएंगे
  • मतदान केंद्रों पर रैम्प, शौचालय, कतार प्रबंधन, वोलेंटियर, हेल्पडेस्क, क्रेच, चिकित्सा सहायक के साथ मेडिकल किट उपलब्ध रहेंगे
  • कुल 99681 कर्मियों की तैनाती की जाएगी (आरक्षित कर्मियों सहित) जो दिल्ली राज्य/केंद्र सरकार, सार्वजनिक उपक्रमों, बैंकों, दिल्ली विश्वविद्यालय, गुरुगोबिंद सिंह विश्वविद्यालय इत्यादि से संबंधित हैं। इनमें 62801 पुरुष और 36880 महिला कर्मी हैं
  • 2100 अधिकारी एवं अधीनस्थ कर्मचारी सभी 11 जिला निर्वाचन अधिकारियों एवं सभी रिटर्निंग अधिकारियों से संबद्ध किए गए हैं
  • मुख्य निर्वाचन अधिकारी कार्यालय में 16 प्रबंधन प्रकोष्ठों की स्थापना की गई है। 2 आईएएस अधिकारी चीफ नोडल अफसर एवं 3 दानिक्स अधिकारी ओएसडी के रूप में तैनात किए गए हैं
  • 11 जिलों में 50471 दिव्यांग मतदाताओं को चिन्हित किया गया
  • पीडब्ल्यूडी वोटर के लिए विशेष किट चुनाव से एक दिन पहले उपलब्ध होगी जिसमें सामान्य और ब्रेल लिपि सहित गाइड होगी
  • 11 जिलों में कुल 4763 दृष्टिहीन वोटर हैं, 2169 ब्रेल एपिक जारी किए गए हैं
  • दिव्यांग वोटरों के लिए पीडब्लयूडी एप है जिससे वे परिवहन, व्हील चेयर जैसी सुविधाएं मांग सकते हैं
  • दिव्यांग वोटरों की मदद के लिए 85 साइन लैंग्वेज इंटरप्रेटर होंगे

नई तकनीक से वोटर्स की सुविधाओं में इजाफा हुआ

निर्वाचन आयोग ने किए साइबर सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम

संबंधित खबरें