ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News NCR नई दिल्लीसंपादित--युवती को खरीदकर देह व्यापार में धकेला, विरोध करने पर हत्या की

संपादित--युवती को खरीदकर देह व्यापार में धकेला, विरोध करने पर हत्या की

-क्राइम ब्रांच ने एक फोटो की मदद से आरोपी को वारदात के 16 साल बाद

संपादित--युवती को खरीदकर देह व्यापार में धकेला, विरोध करने पर हत्या की
हिन्दुस्तान टीम,नई दिल्लीTue, 14 May 2024 10:00 PM
ऐप पर पढ़ें

-क्राइम ब्रांच ने एक फोटो की मदद से आरोपी को वारदात के 16 साल बाद गिरफ्तार किया
नई दिल्ली, प्रमुख संवाददाता।

दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने  हत्या के आरोपी एक ऐसे शख्स को गिरफ्तार किया है, जिसने पश्चिम बंगाल से 22 साल की एक युवती को दस हजार रुपये में खरीदकर उसे दिल्ली में देह व्यापार के धंधे में धकेल दिया था। पीड़िता ने जब इसका विरोध किया तो आरोपी ने उसकी बेरहमी से हत्या कर दी थी। इसके बाद शव को संदूक में बंद कर फरार हो गया था। फरार आरेापी को पुलिस ने करीब 16 साल बाद एक फोटो की मदद से दबोचा है। यह वारदात जून 2007 में कालकाजी इलाके में हुई थी। कालकाजी पुलिस ने आरोपी की काफी तलाश की थी, लेकिन उसका कुछ पता नहीं चल पाया था।

क्राइम ब्रांच ने बताया कि गिरफ्तार आरोपी 57 वर्षीय वीरेंद्र सिंह मूल रूप से बिहार का रहने वाला है। जानकारी के मुताबिक शिकायतकर्ता ने पुलिस को बताया कि वह प्रॉपर्टी डीलर का काम करता है और कमीशन के आधार पर मकान किराए पर देने का काम करता है। दो जून 2007 को वीरेंद्र सिंह को उसने तीन हजार रुपये एडवांस लेकर किराए का मकान दिलाया था। कुछ रकम बाकी रह गई थी। शिकायतकर्ता सात जून को बाकी रकम लेने किराए के आवास पर पहुंचा तो वहां ताला लगा था और अंदर से दुर्गंध आ रही थी। इसके बाद कालकाजी थाने में हत्या का केस दर्ज कर जांच आरंभ की गई, लेकिन आरोपी का कोई सुराग नहीं लगा।

क्राइम ब्रांच ने जब जांच आरंभ की तो किराएदार सत्यापन के लिए दी गई आरोपी की फोटो के जरिये आरोपी की जानकारी जुटाते हुए उसे रोहिणी के विजय विहार इलाके से धर दबोचा। आरोपी ने यह स्वीकार किया कि उसने युवती को दस हजार रुपये में खरीदा और दिल्ली लाकर देह व्यापार करवाने लगा। बीमारी की वजह से जब युवती ने विरोध किया तो उसकी अपने साथी की मदद से हत्या कर दी।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।
हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें