DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

डूटा में वाम की जीत: डीटीएफ के राजीव रे बने डूटा अध्यक्ष

नई दिल्ली। वरिष्ठ संवाददाता डूटा चुनाव में कड़े मुकाबले के बीच एकबार फिर वाम पक्ष ने डूटा अध्यक्ष पद जीत लिया। चुनाव में एनडीटीएफ की जीत के लिए संघ तक सक्रिय रहा, लेकिन फिर भी लेफ्ट के अध्यक्ष पद प्रत्याशी राजीव रे ने जीत हासिल की। डीटीएफ के प्रत्याशी राजीव रे ने अपने निकटतम प्रतिद्वंदी एनडीटीएफ के वीएस नेगी को 261 वोट से हराया। डूटा चुनावों के लिए कुल वोट 9200 हैं जिसमें से इस साल 7200 शिक्षकों ने मतदान किया। लेफ्ट समर्थित शिक्षक संघ डीटीएफ के अध्यक्ष पद प्रत्याशी राजीव रे को कुल 2656 वोट प्राप्त हुए। उन्होंने अपने निकटतम प्रतिद्वंदी एनडीटीएफ के वीएस नेगी को 261 वोटों से हराकर अध्यक्ष पद पर कब्जा कर लिया है। भाजपा समर्थित शिक्षक संघ एनडीटीएफ के प्रत्याशी वीएस नेगी को कुल 2575 वोट प्राप्त हुए। उन्होंने राजीव रे को कड़ी टक्कर दी। वहीं कांग्रेस समर्थित शिक्षक संघ एएडी जिसे एससी, एसटी टीचर्स फोरम का समर्थन प्राप्त था, उससे सुरेन्द्र सिंह राणा मैदान में थे। सुरेन्द्र सिंह राणा व राजीव रे में सीधी टक्कर का अनुमान लगाया जा रहा था, लेकिन सुरेन्द्र सिंह राणा को 19&0 वोटों से ही संतोष करना पड़ा। वहीं बीटीएफ के प्रत्याशी चौठे नंबर पर रहे जिन्हें मात्र 48 वोटों से ही संतोष करना पड़ा।साल 2011 में डॉ. अमरदेव शर्मा ने डीटीएफ से अध्यक्ष पद जीतकर लेफ्ट को डूटा में काबिज किया था। उसके बाद साल 2015 से 2017 तक लगातार दो बार डीटीएफ की नंदिता नारायण अध्यक्ष रहीं। इस बार डीटीएफ के राजीव रे ने लेफ्ट की सत्ता को बचाते हुए अध्यक्ष पद पर अपनी पकड़ बना ली। पिछले चार चुनावों से लेफ्ट डूटा के अध्यक्ष पद को जीतती आई है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:DUTA