अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दिल्ली महिला पिटाई: केजरीवाल ने पुलिस पर लगाया मिलीभगत का आरोप

DCW

दिल्ली के नरेला इलाके में शराब माफियाओं की ओर से एक महिला को निर्वस्त्र कर उसकी पिटाई किए जाने पर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने सीधा हमला दिल्ली पुलिस पर किया है। केजरीवाल ने कहा कि महिला की पिटाई में दिल्ली पुलिस की भी मिलीभगत थी। उन्होंने कहा कि इस पूरे मामले पर वे दिल्ली के उप-राज्यपाल अनिल बैजल से मिलने का शाम चार बजे का वक्त मांगा है। हालांकि, इधर दिल्ली पुलिस ने पूरे मामले पर कार्रवाई करते हुए चार और महिलाओं को गिरफ्तार किया है। 

पुलिस का कहना है कि शराब माफियाओं पर शिकंजा कसने के मामले में दिल्ली महिला आयोग और पुलिस को मदद कर रही महिला की पिटाई करने और उसके कपड़े फाड़ने के आरोप में छह लोगों को गिरफ्तार किया गया है। रोहिणी के डीसीपी रजनीश गुप्ता ने कहा कि इस मामले में छह लोग गिरफ्तार किए गए। उधर, दिल्ली के उप-राज्यपाल अनिल बैजल ने भी गिरफ्तार पर ट्वीट किया है।

अनिल बैजल ने ट्विटर पर लिखा है- कल शाम को दिल्ली के पुलिस आयुक्त को निर्देश दिया था कि नरेला घटना में शामिल लोग और पुलिस अधिकारी की संलिप्तता पायी जाती है तो उनके खिलाफ भी कड़ी कार्रवाई करे। एफआईआर दर्ज की गई और छह लोग पहले ही गिरफ्तार हो चुके हैं। तेज़ी से जांच के भी निर्दश दिए हैं।
 

गौरतलब है कि छह दिसंबर को दिल्ली में महिला अधिकारों के लिए काम करनेवाली महिला आयोग की एक वालेंटियर के साथ नरेला इलाके में ना सिर्फ मारपीट की गई बल्कि उसके कपड़े फाड़कर उसकी परेड भी करायी गई। ख़बरों के मुताबिक, आरोपी इतने पर ही नहीं रुके बल्कि इस पूरी घटना के दौरान आरोपियों ने उस महिला वालेंटियर का वीडियो भी बना डाला। 

ऐसा कहा जा रहा है कि दिल्ली महिला आयोग की टीम अवैध रूप से बेची जा रही शराब पकड़वाने के लिए गई। सरेआम हुई इस घटना में नरेला थाना पुलिस ने मारपीट, छेड़छाड़, धमकी देने आदि की धाराओं में मामला दर्ज कर लिया है।

रोहिणी के डीसीपी रजनीश गुप्ता के मुताबिक बुधवार की शाम 7.35 बजे महिला आयोग की टीम ने नरेला जेजे कॉलोनी स्थित आशा नामक महिला के घर में छापेमारी की थी। घर से 312 क्वार्टर और 12 बीयर की बोतलें बरामद हुईं। इस बाबत एक्साइज एक्ट के तहत मामला दर्ज किया गया। छापेमारी के समय आशा और उसका पति राकेश घर पर मौजूद नहीं थे। घर पर उनकी बेटी श्वेता मौजूद थी। 

रात होने के चलते आशा को पुलिस ने गिरफ्तार नहीं किया बल्कि सिर्फ उसे नोटिस देकर पुलिस वापस लौट आई। छापेमारी के दौरान इलाके में नशा मुक्ति पंचायत चलाने वाली दो महिलाएं मौजूद थीं। यह दोनों महिलाएं थानाध्यक्ष द्वारा चलाई जा रही नशा मुक्ति पंचायत के लिए काम करती हैं। उन्होंने मौके पर पुलिस को काफी सहयोग भी किया। इसके चलते आरोपी, उसका परिवार एवं रिश्तेदार नाराज हो गए थे।

लेकिन, गुरुवार की दोपहर को आरोपी आशा और उसके समाज की अन्य महिलाओं ने इनमें एक महिला पर हमला कर दिया। उन्होंने महिला की पिटाई करने के साथ ही उनके कपड़े तक फाड़ दिए। सूचना पर पहुंची पुलिस ने पीड़ित को मेडिकल के लिए अस्पताल पहुंचाया। वहां से उपचार के बाद उन्हें छुट्टी दे दी गई है।
डीसीपी के मुताबिक, इस वारदात में संलिप्त राकेश के खिलाफ पहले से ही इक्कीस आपराधिक मामले और उसकी पत्नी आसा के खिलाफ नौ मामले दर्ज हैं।

ये भी पढ़ें: निठारी कांड: 9वें मर्डर केस में दोषी मोनिंदर पंढेर और सुरेंद्र कोली को आज सुनाई जाएगी सजा

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Delhi Commission of Women Volunteer were beaten and parade in Narela area of Delhi