class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

हाइवे पर लूटपाट करने वाले मंजीत महल के गुर्गे को भी पकड़ा

दिल्ली पुलिस की अपराध शाखा ने कुख्यात गैंगेस्टर मंजीत महल के एक ऐसे गुर्गे को भी पकड़ा है जो हाइवे पर लूटपाट करता है। आरोपी की पहचान प्रवीण मलिक उर्फ मोली के रूप में हुई है। प्रवीण ने जनवरी और जून 2017 में गन प्वाइंट पर किडनैपिंग और लूट की दो वारदातों को अंजाम दिया था। बता दें कि दिल्ली पुलिस ने संगठित तरीके से गिरोह चलाने के मामले में मंजिल महल और गिरोह के सदस्यों को मकोका में बुक किया था।

डीसीपी (क्राइम) भीष्म सिंह के मुताबिक क्राइम ब्रांच को सूचना मिली कि मंजीत महल गिरोह का बदमाश प्रवीण गोयला डेयरी बस स्टेंट के पास आने वाला है। सूचना के आधार पर प्रवीण को गिरफ्तार कर लिया गया। शुरू में आरोपी ने पुलिस को बरगलाने की कोशिश की थी। मगर बाद हाइवे रोबरी और किडनैपिंग के दोनों मामलों में हाथ होने की बात कबूल ली। पुलिस के मुताबिक प्रवीण ने पांच जनवरी 20017 में अपने साथियों विकास दलाल, अंशुल धनकर और नरेंद्र उर्फ मिंटू के साथ मिलकर द्वारका सेक्टर-23 में ‌बिजनेसमैन समीर बंसल को गन प्वाइंट पर उसकी कार से ही अगवा कर लिया था। उससे मोटी रकम लेने के बाद उसे गुरुग्राम में छोड़कर फरार हो गए। इसी तरह प्रवीण ने 19 जून 2017 को नरेंद्र, विजय और मनीष के साथ मलकर द्वारका एक्सप्रेसवे पर एक व्यक्ति से गन प्वाइंट पर कार लूटी थी। दोनों मामलो में पुलिस ने उसके साथियों को गिरफ्तार कर लिया, मगर प्रवीण फरार चल रहा था। पुलिस ने लूटी गई कार को गुरुग्राम से हेमंत प्रधान को गिरफ्तार कर उसके पास से बरामद की थी। उस वक्त हेमंत प्रतिद्विंदी गैंगस्टर कृष्णा पहलवान की हत्या की साजिश रच रहा था।

2013 में आया था मंजिल महल के संपर्क में

पुलिस के मुताबिक प्रवीण मूल रूप से झज्जर हरियाणा का रहने वाला है। उसका संबंध गरीब परिवार से है। वर्ष 2013 में वह दिल्ली आया और प्रॉपर्टी डिलिंग के काम में हाथ आजमाया। इसी दौरान नजफगंढ़ में वह मंजीत महल गैंग के सदस्यों विकास दलाल, अंशुल, विजय और नरेंद्र के संपर्क में आया। पुलिस के मुताबिक प्रवीण गैंगस्टर उदयवीर काला का रिश्तेदार है। पुलिस प्रवीण से पूछताछ के आधार पर आगे की जांच कर रही है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:crime
मैच से पहले प्रदूषण का स्तर भी जाना जाएकल्ब में छोटी रकम से ताश खेलना जुआ नहीं-