DA Image
27 मार्च, 2020|11:16|IST

अगली स्टोरी

कोरोना लॉकडाउन: घर की घंटी बजी तो छलक उठा लोगों का दर्द

लॉकडाउन के दौरान घरों में बैठे आम लोगों की समस्याओं को जानने के लिए हिन्दुस्तान संवाददाताओं ने गुरुवार को दिल्ली के अलग-अलग इलाकों में रहने वाले लोगों के घरों की घंटी बजाई, जिससे लोगों की परेशानियों को जानकर उनका हल किया जा सके। इस दौरान किसी ने नर्सिंग होम में मरीज को न देखे जाने की आपबीती सुनाई तो कुछ लोगों ने दूध न आने और महंगे मिलते सामान को लेकर अपना दर्दा बयां किया।  हिन्दुस्तान टीम की रिपोर्ट...

नर्सिंग होम ने देखने से मना किया
स्थान : शाहदरा में बजी घंटी

शाहदरा के पंचशील गर्डन इलाके में रहने वाले राजेश कुमार के घर की घंटी बजाने पर उन्होंने बताया कि पत्नी को एक नर्सिंग होम ने उपचार देने से मना कर दिया। राजेश की पत्नी को खांसी और जुकाम की लंबे समय से शिकायत है। इसका इलाज नर्सिंग होम में चल रहा था। गुरुवार सुबह जब वह अपनी पत्नी को वहां दिखाने पहुंचे तो रिसेप्शन पर बैठे नर्सिंग स्टाफ के कर्मियों ने दूसरी जगह ले जाने की बात कहीं। जबकि, वहां से ही पत्नी का इलाज चल रहा है। उन्होंने वहां तैनात कर्मचारियों को नर्सिंग होम का पर्चा भी दिखाया, लेकिन वह मानने को तैयार नहीं थे। इस पर उन्होंने पुलिस को कॉल की। पुलिस के हस्तक्षेप के बाद नर्सिंग होम के चिकित्सक पत्नी को देखने को राजी हुए।

दूध वाला घर नहीं आ रहा
स्थान : उत्तम नगर में बंजी घंटी

उत्तमनगर क्षेत्र के नन्हे पार्क निवासी चेतन यादव ने बताया कि उनके यहां दूध नहीं आ रहा है। घर पर हर दिन दूधिया दूध देने के लिए आता था। लेकिन, लॉक डाउन के चलते वह अब दूध देने नहीं आ पा रहा है। पूछने पर उसने बताया कि ज्यादा सुरक्षा होने के चलते फिलहाल वह नहीं आ सकता है। हालांकि, इससे ज्यादा परेशानी इसलिए नहीं हो रही है क्योंकि दुकानों पर पैकेट वाला दूध मौजूद है। इसलिए काम चल जा रहा है।

मास्क, सेनेटाइजर की मनमानी कीमत वसूल रहे
स्थान : दिलशाद गार्डन में बंजी घंटी

दिलशाद गार्डन में रहने वाली रश्मि शर्मा बताया कि लॉक डाउन से कई तरह की समस्याएं शुरुआत में हुईं। यह आंशका भी थी कि अब शायद सामान नहीं मिले या दूध या सब्जी लेने में परेशानी आए। लेकिन, एक दो दिन बाद स्थिति सामान्य हो गई है। अब परेशानियां कम हैं। हां, अब भी दुकानदार मास्क और सेनेटाइजर की मनमानी कीमत वसूल रहे हैं। वहीं, लॉकडाउन में सबसे अधिक परेशानी बच्चों के साथ है क्योंकि वे घर से बाहर नहीं निकल रहे और घर में खेल-खेल कर वह निराश हो गए हैं। लेकिन देश और दुनिया के जो हालात हैं उसे देखते हुए ये परेशानियां मामूली हैं।

दुकान पर सब्जी महंगी मिल रही
स्थान : विश्वास नगर में बजी घंटी

विश्वास नगर स्थित शिवम एंक्लेव निवासी गृहिणी साधना शर्मा पूजा के लिए फूल न मिलने की समस्या से परेशान हैं। उनका कहना था कि नवरात्र की पूजा के लिए फूल माला बाजार में नहीं मिल रही। ऐसा पहली बार हुआ है कि दुर्गा मां की पूजा बिना माला के करनी पड़ रही है। नवरात्र के व्रत से जुड़े सामान की खरीदारी के लिए कई दुकानों के चक्कर लगाने पड़ते हैं। इसके अलावा गली में ठेले पर सब्जी लेकर आने वाले भी नहीं आ रहे। कोरोना की आड़ में दुकानदार महंगी सब्जी बेच रहे हैं।

ईएमआई जमा कराने में छूट मिले
स्थान : मीठापुर गांव में बजी घंटी

लॉक डाउन ने बदरपुर स्थित मीठापुर गांव के कारोबारी कदम प्रधान की चिंता बढ़ा दी है। कदम का कहना है लॉक डाउन के कारण उनका पूरा कारोबार ठप है और पिछले कुछ दिनों में एक रुपये की आमदनी नहीं हुई हैं। ऐसे में उन्हें बैंक से लिए ऋण की निर्धारित ईएमआई की चिंता सताने लगी है। जो अप्रैल माह के पहले सप्ताह में देनी है। उम्मीद है सरकार सभी ईएमआई वाले लोगों की इस चिंता को ध्यान में रखते हुए कुछ महीनों के लिए ईएमआई भरने से छूट उपलब्ध कराए।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:corona lockdown know the problem people are facing in delhi