ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News NCR नई दिल्ली'दिल्ली के मुख्य सचिव को तुरंत सस्पेंड करें', केजरीवाल ने LG को 'अस्पताल घोटाले' की रिपोर्ट भेजकर की मांग

'दिल्ली के मुख्य सचिव को तुरंत सस्पेंड करें', केजरीवाल ने LG को 'अस्पताल घोटाले' की रिपोर्ट भेजकर की मांग

भूमि अध्रिगहण से जुड़े घोटाले के बाद चीफ सेक्रेटरी पर अस्पताल घोटाले में शामिल होने का आरोप है। सीएम केजरीवाल ने इससे जुड़ी रिपोर्ट ही उपराज्यपाल को भेजी है और उन्हें तुरंत हटाए जाने की मांग की है। 

'दिल्ली के मुख्य सचिव को तुरंत सस्पेंड करें', केजरीवाल ने LG को 'अस्पताल घोटाले' की रिपोर्ट भेजकर की मांग
Aditi Sharmaलाइव हिंदुस्तान,नई दिल्लीSat, 18 Nov 2023 12:03 PM
ऐप पर पढ़ें

दिल्ली के मुख्य सचिव नरेश कुमार पर लगे भ्रष्टाचार के आरोपों की रिपोर्ट मुख्यमंत्री अरविंद  केजरीवाल ने उपराज्यपाल वीके सक्सेना को भेज दी है। इस रिपोर्ट में उन्होंने चीफ सेक्रेटरी को तुरंत हटाने की मांग की है। दरअसल दिल्ली सरकार की रिपोर्ट में भूमि अध्रिगहण से जुड़े घोटाले के बाद उनके खिलाफ अस्पताल घोटाले में शामिल होने का आरोप है। सीएम केजरीवाल ने इससे जुड़ी रिपोर्ट ही उपराज्यपाल को भेजी है और उन्हें तुरंत हटाए जाने की मांग की है।

दरअसल दिल्ली की सतकर्ता मंत्री आतिशी ने अपनी रिपोर्ट में आरोप लगाया था कि नरेश कुमार ने अपने बेटे की कंपनी को दिल्ली सरकार के ILBS अस्पताल से बिना टेंडर AI सॉफ्टवेयर बनाने का काम दिलवाया जिससे कंपनी को करोड़ों का मुनाफा हुआ। 

दिल्ली सरकार की रिपोर्ट में दावा किया गया था कि चीफ सेक्रेटरी की बेटे की कंपनी केवल 7 महीने पहले बनी थी और उसे सॉफ्टवेयर बनाने का भी कोई अनुभव नहीं है लेकिन फिर भी कंपनी को एआई सॉफ्टवेयर दिलवाने का काम दिलवाया गया।

अस्पताल की ओर से क्या कहा गया?

वहीं  मुख्य सचिव के करीबी सूत्रों ने दावा किया है कि उनके बेटे ने कंपनी और आईएलबीएस के बीच किसी भी समझौता ज्ञापन (एमओयू) पर हस्ताक्षर नहीं किए हैं।  उन्होंने दावा किया कि वह शेयरधारक, निदेशक,  भागीदार या कर्मचारी के रूप में संबंधित कंपनी से बिल्कुल भी जुड़े नहीं हैं। यकृत एवं पित्त विज्ञान संस्थान (आईएलबीएस) ने गुरुवार को एक बयान में आरोपों को “पूरी तरह से निराधार और तथ्यहीन” बताया था।

भूमि अध्रिग्रहण मामले में हेरफेर के आरोप

 इससे पहले रिपोर्ट में उनपर द्वारका एक्सप्रेस वे में भूमि अधिग्रहण में भी हेरफेर के आरोप लगाए गए हैं। यहीं से विजिलेंस मंत्री आतिशी ने चीफ सेक्रेटरी के खिलाफ भ्रष्टाचार के आरोपों की जांच की थी। इससे पहले 16 नवंबर को दिल्ली सरकार ने एक्सप्रेसवे परियोजना में भूमि अधिग्रहण घोटाले का मामला सीबीआई को भेजा था।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें