ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News NCR नई दिल्लीचाबहार::: चाबहार बंदरगाह से भारत को व्यापार मार्ग बढ़ाने में मदद मिलेगी : रिपोर्ट

चाबहार::: चाबहार बंदरगाह से भारत को व्यापार मार्ग बढ़ाने में मदद मिलेगी : रिपोर्ट

नोट : चाबहार संबंधित खबर में इस्तेमाल करें। ----------------------------------------------------------- नई दिल्ली, एजेंसी। ईरान...

चाबहार::: चाबहार बंदरगाह से भारत को व्यापार मार्ग बढ़ाने में मदद मिलेगी : रिपोर्ट
हिन्दुस्तान टीम,नई दिल्लीTue, 14 May 2024 08:15 PM
ऐप पर पढ़ें

नई दिल्ली, एजेंसी।
ईरान में चाबहार बंदरगाह के विकास से भारत को अपनी लॉजिस्टिक क्षमता बढ़ाने और मध्य एशिया तक अपने व्यापार मार्गों का विस्तार करने में मदद मिलेगी। आर्थिक शोध संस्थान ग्लोबल ट्रेड रिसर्च इनिशिएटिव (जीटीआरआई) ने मंगलवार को इस बंदरगाह पर मालढुलाई के प्रभावी प्रबंधन का भी सुझाव दिया।

जीटीआरआई ने एक रिपोर्ट में सरकार को यह सुझाव दिया कि ईरान का एकमात्र समुद्री बंदरगाह होने के बावजूद चाबहार बंदरगाह अंतरराष्ट्रीय प्रतिबंधों के अधीन न आए। यह बंदरगाह न सिर्फ रणनीतिक रूप से अहम है बल्कि इस परियोजना की सफलता जटिल भू-राजनीतिक वातावरण से भी जुड़ी है। भारत ने एक दिन पहले ही चाबहार के बंदरगाह टर्मिनल के संचालन से संबंधित एक 10-वर्षीय अनुबंध पर हस्ताक्षर किए। इस समझौते पर इंडियन पोर्ट्स ग्लोबल लिमिटेड (आईपीजीएल) और ईरान के बंदरगाह एवं समुद्री संगठन ने हस्ताक्षर किए।

जीटीआरआई के सह-संस्थापक अजय श्रीवास्तव ने कहा, भारत को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि चाबहार में मालढुलाई के प्रभावी प्रबंधन के लिए जरूरी बुनियादी ढांचा, प्रक्रियाएं और कर्मी हों। फिर भी ऐसी बड़े पैमाने की परियोजनाओं के लिए आवश्यक व्यापक स्थिरता बाहरी राजनीतिक दबावों और क्षेत्रीय अस्थिरता के कारण एक महत्वपूर्ण चुनौती बनी हुई है।

बंदरगाह संबंधित मामले मध्यस्थता न्यायाधिकरण भेजे जाएंगे : अधिकारी

भारत और ईरान इस बात पर सहमत हुए हैं कि चाबहार बंदरगाह के संचालन के संबंध में मध्यस्थता की आवश्यकता वाले मामलों को मस्कट स्थित तीन सदस्यीय मध्यस्थता न्यायाधिकरण को भेजा जाएगा। एक वरिष्ठ सरकारी अधिकारी ने मंगलवार को बताया, मध्यस्थता संबंधी मुद्दों पर सर्वसम्मति से सहमति हो गई है। इसके तहत सिंगापुर अंतरराष्ट्रीय मध्यस्थता केंद्र के मस्कट स्थित तीन सदस्यीय मध्यस्थता न्यायाधिकरण दोनों देशों के मुद्दों को सुलझाने का काम करेगा।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।
हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें