DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कॉरपोरेशन बैंक के दो पूर्व मुख्य प्रबंधक सहित अन्य के खिलाफ मामला दर्ज

नई दिल्ली। प्रमुख संवाददाताकॉरपोरेशन बैंक दिल्ली शाखा में हुई 27 करोड़ रुपये की जालसाजी के मामले में सीबीआई ने अलग-अलग तीन प्राथमिकी दर्ज की हैं। इस सिलसिले में दिल्ली-एनसीआर में छापेमारी की गई। इनमें बैंक के दो पूर्व मुख्य प्रबंधक भी शामिल हैं। बैंक अधिकारियों ने निजी कंपनियों के साथ मिलीभगत कर फर्जी दस्तावेजों पर ऋण मुहैया कराया था।सूत्रों का कहना है कि करोड़ों रुपये की इस जालसाजी में बैंक अधिकारियों के अलावा अलग-अलग फर्म के निदेशक, प्रोपराइटर, बिचौलिये तथा एक अधिवक्ता शामिल हैं। जिन लोगों को प्राथमिकी में नामजद किया गया है उनमें कॉरपोरेशन बैंक (दक्षिण दिल्ली) के पूर्व मुख्य प्रबंधक पवन आर्य, सुकांता चंद्रा राउत पूर्व मुख्य प्रबंधक व शाखा प्रबंधक कॉरपोरेशन बैंक (वसंत विहार), राजकुमार कर्णवाल निदेशक तथा मनीष कुमार कर्णवाल निदेशक मैसर्स लांसर हेल्थकेयर, एस के वर्मा निजी व्यक्ति चक्रधर मुदुली निजी व्यक्ति, अधिवक्ता संदीप शर्मा तथा मैसर्स सोलोमन कंस्लटिंग प्रा.लि. तथा अन्य है।सीबीआई का कहना है कि तीनों मामलों में आरोपियों ने नौ-नौ करोड़ रुपये की जालसाजी फर्जी दस्तावेजों के जरिये की। तीनों प्राथमिकी में आरोपियों के खिलाफ साजिश रच कर जालसाजी करना, फर्जी दस्तावेज तैयार करने तथा भ्रष्टाचार की धाराओं का इस्तेमाल किया गया है।दिल्ली तथा एनसीआर में छापेमारी: सीबीआई का कहना है कि पूर्व बैंक अधिकारियों, कंपनी निदेशक, अधिवक्ता तथा बिचौलियों के दिल्ली, गुरुग्राम, गाजियाबाद, नोएडा आवास व कार्यालय सहित दस स्थानों पर छापेमारी की गई। छापेमारी में आपत्तिजनक दस्तावेज बरामद किए गए हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:cbi registred three case of bank fraud