bmw car - शानशौकत के लिए पूर्व नौसैनिक ने लूटी थी बीएमडब्ल्यू कार DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

शानशौकत के लिए पूर्व नौसैनिक ने लूटी थी बीएमडब्ल्यू कार

नई दिल्ली। कार्यालय संवाददाता

बीएमडब्ल्यू कार लूटने में वसंतकुंज साउथ पुलिस ने एक ऐसे बदमाश को गिरफ्तार किया है, जो नौसैनिक रह चुका है। आरोपी भारत सिंह ने सिर्फ शानोशौकत के लिए दक्षिणी दिल्ली स्थित रेडिसन होटल के सामने से सोमवार की देर रात वारदात की थी। पुलिस ने हरियाणा के खेड़कीद्दौला टोल प्लाजा के पास से बरामद कर ली है।

एडिशनल डीसीपी चिन्मय बिस्वाल ने बताया कि आगरा की एक फर्म में काम करने वाला चालक खेमचंद तीन अक्तूबर को कंपनी के मालिक को आगरा के रजिस्ट्रेशन नंबर की बीएमडब्ल्यू कार से दिल्ली एयरपोर्ट छोड़ने आया था। वापसी में दोपहर लगभग 12 बजे एसआई की वर्दी पहने एक शख्स ने उससे लिफ्ट ली। थोड़ा आगे जाकर रेडिसन होटल के पास उसने चाकू की नोंक पर कार एवं चालक का मोबाइल फोन लूट लिया और चालक को नीचे उतारकर कार सहित गुरुग्राम की तरफ फरार हो गया।

पीड़ित की सूचना पर वसंतकुंज साउथ पुलिस ने मामला दर्ज करके इंस्पेक्टर वेदप्रकाश और एसआई संजीव चौधरी की टीम को मामले की जांच सौंपी। कार में लगे जीपीएस की मदद से पुलिस को पता चला कि कार खेड़कीद्दौला टोल प्लाजा के पास कहीं खड़ी है। कार की बरामदगी के लिए एक पुलिस टीम मौके पर भेजी गई।

कार क्रेन से उठवा रहा था

जांच में सामने आया कि बीएमडब्ल्यू जैसी लग्जरी कार एक बार स्टार्ट होने के बाद बिना चाभी के चलती है। मगर कार बंद हो गई तो उसे स्टार्ट करने के लिए चाभी की जरूरत पड़ती है। दरअसल, लूटपाट के दौरान कार की चाभी खेमचंद्र की जेब में ही रह गई थी। टोल प्लाजा के पास कार बंद हो गई तो उसे स्टार्ट करने के लिए चाभी की जरूरत पड़ी, जो उसके पास नहीं थी। इसके बाद आरोपी ने फोन कर क्रेन सर्विस को बुलाया। पुलिस की वर्दी देखकर क्रेन वाले ने भी उससे कोई सवाल-जवाब नहीं किया। आरोपी ने उसे बताया कि कार खराब हो गई है और इसे खींचकर मैकेनिक तक ले जाना है। वह क्रेन की मदद से खींचकर कार ले जा रहा था, तभी दिल्ली पुलिस ने उसे पकड़ लिया। पुलिस ने उसके कब्जे से पीड़ित का मोबाइल और चाकू भी बरामद कर लिया।

पेटी अफसर के पद से सेवानिवृत्त

50 वर्षीय भारत मूल रूप से हरियाणा के महेंद्रगढ़ का रहने वाला है। वह वर्ष 1988 में नौसेना में नाविक के पद पर भर्ती हुआ था, लेकिन वर्ष 2001 में उसने पेटी अफसर के पद से वीआरएस ले लिया। फिलहाल वह छोटे-मोटे काम करके गुजारा चला रहा था। आरोपी ने बताया कि उसने खुद के प्रयोग के लिए कार लूटी थी। वह कार अपने गांव ले जा रहा था। पुलिस आरोपी की आपराधिक पृष्ठिभूमि की भी जांच कर रही है।

अभी तक ऑडी नहीं मिली

गत वर्ष 31 मई को साउथ एक्सटेंशन से सुप्रीम कोर्ट के वकील की 95 लाख रुपये की ऑडी कार लूट ली गई थी। इसका पुलिस आज तक सुराग नहीं लगा पाई है। सूत्रों के अनुसार, कार की आखिरी लोकेशन मेरठ में मिली थी। एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि यह कार पूर्वोत्तर के राज्यों से होते हुए अब म्यांमार पहुंच चुकी है। हालांकि, वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों ने इस बाबत बयान देने से इनकार कर दिया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:bmw car