अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

व्यवस्था से हारी दिव्यांग रेप पीड़िता, केस वापस लेने को दी अर्जी

blind girl rape in karol bagh

दो हफ्ते पहले कुछ लोगों द्वारा रेप करने के बाद व्यवस्था से हारी करोलबाग की एक दिव्यांग लड़की ने पुलिस में जारी केस को वापस लेने का निर्णय लिया है। पीडि़ता ने यह फैसला पूरे मामले पर चाचा द्वारा फांसी लगाने के बाद लिया है।

बता दें कि दो हफ्ते पहले 20 साल की दिव्यांग लड़की से कुछ लोगों ने मिलकर दिल्ली के करोलबाग इलाके में बलात्कार किया था। इस घटना के बाद लड़की के चाचा ने खुद को फांसी लगा ली। बता दें कि लड़की का चाचा एक रिक्शाचालक था जिसपर पूरे परिवार की जिम्मेदारी थी। वह पीडि़ता और उसकी 55 साल की मां के साथ रहता था। इस पूरे मामले पर पीडि़ता का कहना है कि चाचा की मौत के बाद अब उन्हें किसी से भी मदद की उम्मीद नहीं है और अब ना ही उन्हें घर चलाने के लिए कोई उपाय सूझ रहा है। क्योंकि उनके पास कमाई का कोई जरिया नहीं है।

11 पतियों को लूटने वाली लुटेरी दुल्हन अरेस्ट, यूं फंसाकर करती थी शादी

पीडि़ता ने आगे कहा कि अब यहां हमारा कोई नहीं है, तो हम गांव चले जाएंगे। पुलिस ने जितना संभव था उतना किया। अब हम सबके लिए बढि़या है कि हम अपना केस वापस लें। हमारे पास तो खाने और पैसे की भी कमी है। इस स्थिति में केस लड़ना समझ से परे है।

बता दें कि पीडि़ता का चाचा गुरुवार की सुबह पांच बजे एक पेड़ पर फांसी लगाते मिला। पीडि़ता की मां ने बताया कि पुलिस स्टाफ मृत बॉडी को ले गए हैं और इसके बाद उनसे कोई बात नहीं हो पाई है।

पीडि़ता की मां ने आगे कहा कि हम नहीं जानते कि शरीर पर दावा कैसे करें। हमें किसी की जरूरत है। हमें लगता है कि हम उनके शरीर को बिना किसी दावे के गिना जाएगा और पुलिस द्वारा ही मृत शरीर का अंतिम संस्कार किया जाएगा। बता दें कि 4 मई को पीडि़ता का रेप किया जब उसकी बाहर गई थी जबकि उसके चाचा अपने काम पर थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Blind rape survivor in Delhi loses hope wants to withdraw police case