DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   NCR  ›  नई दिल्ली  ›  अंबानी आवास मामला ::: एनआईए ने एनकाउंटर स्पेशलिस्ट प्रदीप शर्मा को गिरफ्तार किया
नई दिल्ली

अंबानी आवास मामला ::: एनआईए ने एनकाउंटर स्पेशलिस्ट प्रदीप शर्मा को गिरफ्तार किया

हिन्दुस्तान टीम,नई दिल्लीPublished By: Newswrap
Thu, 17 Jun 2021 05:50 PM
अंबानी आवास मामला ::: एनआईए ने एनकाउंटर स्पेशलिस्ट प्रदीप शर्मा को गिरफ्तार किया

- पूर्व पुलिस अधिकारी के घर पर छापे में आपत्तिजनक दस्तावेज बरामद

- शर्मा मामले में गिरफ्तार होने वाले पांचवें पुलिसवाले, अब तक आठ गिरफ्तार

मुंबई, एजेंसी

राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने गुरुवार को मुंबई पुलिस के पूर्व अधिकारी एवं एनकाउंटर स्पेशलिस्ट प्रदीप शर्मा को गिरफ्तार किया। शर्मा को मुकेश अंबानी के आवास एंटीलिया के सामने वाहन में विस्फोटक रखने व व्यवसायी मनसुख हिरन की हत्या मामले में कथित संलिप्तता के लिए गिरफ्तार किया गया। शर्मा इस मामले में एनआईए द्वारा गिरफ्तार किए जाने वाले पांचवें पुलिसकर्मी हैं। अब तक 10 लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है।

एक पुलिस अधिकारी ने बताया, एनआईए की टीम ने शर्मा को बुधवार देर रात मुंबई के नजदीक लोनावाला से पकड़ा और उन्हें पूछताछ के लिए दक्षिण मुंबई स्थित एजेंसी कार्यालय लाया गया। एनआईए ने मुंबई के अंधेरी (पश्चिम) में जेबी नगर स्थित उनके आवास पर गुरुवार सुबह छह बजे छापेमारी भी की। अभियान कई घंटे चला। अधिकारियों ने उनके आवास से कुछ आपत्तिजनक दस्तावेज बरामद किए। कुछ घंटे तक पूछताछ के बाद एनआईए ने गुरुवार को उन्हें गिरफ्तार कर लिया। एनआईए ने मामले में मलाड से सतीश उर्फ ​​तन्नी भाई उर्फ ​​विक्की बाबा और मनीष सोनी को भी गिरफ्तार किया है। उन्हें यहां एक विशेष अदालत में पेश किया गया, जिसने उन्हें 28 जून तक एनआईए की हिरासत में भेज दिया।

सूत्रों के मुताबिक 11 जून को लातूर से पकड़े गए दो अन्य आरोपियों संतोष शेलार और आनंद जाधव से पूछताछ के दौरान शर्मा की संलिप्तता सामने आई थी। इन दोनों के शर्मा से संबंध थे। एजेंसी पहले पुलिस अधिकारी सचिन वाझे, रियाजुद्दीन काजी, सुनील माने को गिरफ्तार कर चुकी है। गिरफ्तारी के बाद उन्हें सेवा से बर्खास्त कर दिया गया था। एजेंसी ने पूर्व कांस्टेबल विनायक शिंदे को भी इस सिलसिले में क्रिकेट सटोरिया नरेश गोर के साथ गिरफ्तार किया था। इस वर्ष 25 फरवरी को एंटीलिया के बाहर एसयूबी खड़ा मिला था।

----

सबूतों को नष्ट करने का आरोप

सूत्रों ने कहा कि प्रदीप शर्मा ने मामले में सबूतों को नष्ट करने में वाझे की कथित तौर पर मदद की थी। उन्होंने कहा कि वह साजिश रचने में शामिल था, और अपने आदमियों की मदद से हिरन की हत्या को अंजाम देने की योजना बना रहा था। करीब दो महीने पहले एनआईए ने शर्मा का नाम मामले में सामने आने के बाद दो दिन तक अपने कार्यालय में उनसे पूछताछ की थी। शर्मा ने 2019 में मुंबई पुलिस से स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति ले ली थी।

संबंधित खबरें