DA Image
हिंदी न्यूज़ › NCR › नई दिल्ली › एक सदी पुराने भाप के इंजन को दिया गया नया रूप
नई दिल्ली

एक सदी पुराने भाप के इंजन को दिया गया नया रूप

हिन्दुस्तान टीम,नई दिल्लीPublished By: Newswrap
Wed, 01 Sep 2021 04:20 PM
एक सदी पुराने भाप के इंजन को दिया गया नया रूप

भुवनेश्वर। एजेंसी

पूर्वी तटीय रेलवे ने पुरी के बीएनआर होटल में रखे एक सदी पुराने भाप के इंजन की मरम्मत कर दी और उसे एक नया रूप दे दिया है। रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव के प्राधिकारियों को इसकी मरम्मत करने के लिए कहने के 15 दिनों के भीतर इसे नया रूप दे दिया गया।

वैष्णव को ओडिशा के हालिया दौरे के दौरान विभिन्न वर्गों से इस इंजन की देखरेख करने के प्रतिवेदन मिले थे। इसके इंजन, छत और बॉयलर रूम पुरी के मौसम के कारण खराब हो गए थे। मंत्री ने इस धरोहर की मरम्मत के निर्देश दिए थे। बीएनआर होटल का प्रबंधन करने वाले इंडियन रेलवे कैटरिंग एंड टूरिज्म कोरपोरेशन (आईआरसीटीसी) के पास इंजन की मरम्मत के लिए संसाधन और तकनीकी विशेषज्ञता की कमी होने पर उसने पूर्वी तटीय रेलवे से इसकी मरम्मत का अनुरोध किया। आईआरसीटीसी के इस संबंध में खर्च का वहन करने के लिए राजी होने के बाद पूर्वी तटीय रेलवे ने इंजन की मरम्मत करने के लिए कदम उठाए।

1904 में हुआ था निर्माण

परालाखेमुंडी के महाराज से लिया गया यह इंजन परालाखेमुंडी लाइट रेलवे (पीएलआर) द्वारा संचालित किया जाता था। यह नौपाड़ा-गुनुपुर रेल खंड में पीएलआर 'नैरो गेज (छोटी लाइन) पर चलता था। इसका निर्माण 1904 में इंग्लैंड की केर, स्टुअर्ट एंड कंपनी ने किया था। 'पीएल-692 इंजन का वजन 20 टन है।

गोला प्रशांत

प्रशांत

0109 1146 भुवनेश्वर

नननन

संबंधित खबरें