DA Image
8 अप्रैल, 2021|11:58|IST

अगली स्टोरी

शव न देने पर अस्पताल में परिजनों का हंगामा

default image

गुरुग्राम। इलाज के नाम पर लाखों रुपये का बिल बनाने और मौत के बाद तीन दिनों तक मरीज के शव को बंधक बना कर रखने का आरोप लगाते हुए परिजनों ने गुरुवार को सेक्टर-38 स्थित निजी अस्पताल में हंगामा किया। परिजनों ने मामले की शिकायत सोशल मीडिया पर मुख्यमंत्री, स्वास्थ्य मंत्री, जिला उपायुक्त और गुरुग्राम पुलिस को भी दी। परिजनों के हंगामे के बाद अस्पताल ने बिना पैसे लिए उन्हें मृतक का शव सौंप दिया। जिसके बाद जाकर हंगामा शांत हो पाया। हालांकि इस मामले में परिजनों की ओर से कोई लिखित शिकायत पुलिस और स्वास्थ्य विभाग को नहीं दी गई।

राजस्थान के चूरू निवासी बंसी लाल ने बताया कि उनकी पत्नी किसवंती देवी 12 मार्च को गांव में काम करते समय कुएं में गिर गई थी। इससे उसकी रीढ़ की हड्डी टूट गई थी। उसे पहले हिसार के अस्पताल ले जाया गया था, लेकिन वहां से बड़े अस्पताल रेफर कर दिया गया। जिसपर परिजन उसे 13 मार्च को गुरुग्राम के सेक्टर-38 स्थित निजी अस्पताल लाए। यहां ऑपरेशन की बात कही गई। जिसके बाद उसे भर्ती कर लिया गया और 17 मार्च को उसका ऑपरेशन हुआ। परिजनों के अनुसार डॉक्टर ने उन्हें ऑपरेशन का खर्च करीब सात लाख रुपये बताया था। गांव के लोगों से उधार लेकर परिजनों ने पैसा अस्पताल में जमा करवा दिया। आरोप है कि ऑपरेशन के बाद महिला के पेट में दर्द रहने लगा। परिजनों ने इसके बारे में डॉक्टरों को बताया, लेकिन उसे गंभीरता से नहीं लिया गया और दर्द दूर करने की दवा दे दी गई। तकलीफ बढ़ने पर जांच की तो पेट में संक्रमण फैलने के बारे में डॉक्टरों ने बताया और पेट के ऑपरेशन की बात कही। परिजनों का कहना है कि उन्होंने पैसा न होने की बात कहते हुए अस्पताल प्रबंधन को मरीज को सरकारी अस्पताल में रेफर करने को कहा, लेकिन अस्पताल से ऐसा नहीं किया और मरीज के पेट का ऑपरेशन भी अपने ही अस्पताल में कर दिया। इसके बाद भी वह ठीक नहीं हुई और छह अप्रैल को उसकी मौत हो गई। मौत के बाद अस्पताल ने परिजनों को साढ़े 15 लाख रुपये का बिल और थमा दिया। परिजनों का आरोप है कि बिल न देने पर अस्पताल ने तीन दिन तक महिला का शव नहीं दिया। गुरुवार को परिजनों द्वारा हंगामा करने के बाद अस्पताल ने बिना पैसे लिए शव परिजनों को सौंपा। इस मामले में अस्पताल के प्रतिनिधियों से बात करने का प्रयास किया गया, लेकिन उन्होंने फोन नहीं उठाया।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Uproar of family members in hospital for not giving dead body